टिकट कटने से इमोशनल हुए गुप्तेश्वर पांडेय, लिखा ‘शुभचिंतक फ़ोन न करें’

टिकट कटने से इमोशनल हुए गुप्तेश्वर पांडेय, बोले 'शुभचिंतकों के फ़ोन से हूँ परेशान'

पटना: राजनीती में मिठास की तलाश कर रहे बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय के जीवन में इस समय फीकापन ज्यादा दिख रहा है। ऐसा उनके ताजे फेसबुक पोस्ट से झलक रहा है। हुआ कुछ यूँ की सियासत में बिगुल फूकने के लिए उन्होंने बिहार के पुलिस विभाग के सबसे बड़े DGP पद से VRS ले लिया अब उनके पास उनके शुभचिंतक लगातार फ़ोन कर रहे हैं। चूँकि जनता दल यूनिटेड ने अपने उम्मेदवारों की सूची जारी कर दी है और उसमे गुप्तेश्वर पांडेय का टिकट कट गया है। जिसके बाद भावुक हुए पूर्व डीजीपी ने लम्बा चौड़ा भावुकता भरा फेसबुक पोस्ट लिख डाला है।

गुप्तेश्वर पांडेय लिखते हैं कि सेवामुक्त होने के बाद सबको उम्मीद थी कि मैं चुनाव लड़ूंगा, लेकिन मैं इस बार विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ रहा। हताश निराश होने की कोई बात नहीं है। धीरज रखें। मेरा जीवन संघर्ष में ही बीता है। मैं जीवन भर जनता की सेवा में रहूंगा। गुप्‍तेशवर पांडेय ने शुभचिंतकों से धीरज रखने और मुझे फोन नहीं करने का आग्रह किया है। उन्‍होंने आगे लिखा है कि उनका जीवन बिहार की जनता को समर्पित है। आगे अपनी जन्मभूमि बक्सर की धरती और वहां के सभी जाति मजहब के सभी बड़े-छोटे भाई-बहनों माताओं और नौजवानों को प्रणाम करते हुए लिखा है कि उनके चाहने वाले अपना प्यार और आशीर्वाद बनाए रखें।

ये भी पढ़ें : फोर्ब्स ने जारी की भारत के 100 सबसे अमीर लोगों की लिस्ट, मुकेश अंबानी की बादशाहत कायम

टिकट न मिलने के बावजूद मैैं NDA का सिपाही हूं – गुप्तेश्वर पांडेय

यही नहीं नीतीश कुमार को लेकर गुप्तेश्वर पांडेय ने गुरूवार को कहा कि, ‘मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार किसी को ठगते नहीं हैं। राजनीति की मजबूरियां होती हैं। आगे पार्टी जो काम देगी, वे करेंगे। उन्‍होंने कहा कि ‘कभी-कभी ऐसा होता है कि आप जो सोचते हैैं वैसा नहीं हो पाता है। टिकट नहीं मिल पाने के बावजूद मैैं NDA का सिपाही हूं। राजनीति की कई मजबूरियां होती है। हो सकता है टिकट का मामला प्रभावित होता हो। पर टिकट नहीं मिलने के बावजूद वे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व एनडीए के सिपाही हैं।

Related Articles