IPL
IPL

#PathanKotAttacks : अब पॉलीग्राफ टेस्ट में सच उगलेंगे एसपी सलविंदर सिंह!

pathankot-sp-salvendra-with-car

नई दिल्ली। गुरुदासपुर के एसपी सलविंदर सिंह की पठानकोट हमले में भूमिका को संदिग्ध मानते हुए राष्ट्रीय जांच एजेंसी(एनआईए) ने उनकी पॉलीग्राफ जांच करने की मांग की है।

यह भी पढ़ें: पठानकोट : मोदी के कॉल पर नवाज आए Action में…

होगा पॉलीग्राफ टेस्ट

एक अंग्रेजी अखबार की खबरों को माने तो इसी बात का पता लगाने के लिए अब एनआईए अब गुरदासपुर के एसपी सलविंदर सिंह का पॉलिग्राफ टेस्ट कराने का मन बना रही है। यह टेस्ट दिल्ली या फिर बेंगलुरु में होने की उम्मीद है। हालांकि इस बारे में अभी स्पष्ट रूप से कुछ नहीं कहा गया है।

यह भी पढ़ें: #Pathankot पाकिस्‍तान को सबूत सौंपे, अब कार्रवाई की बारी...

एसपी ने बताया किया गया था अगवा
एसपी सलविंदर सिंह ने कहा है कि छह पाकिस्तानी आतंकवादियों ने उन्हें, उनके रसोइये मदन गोपाल और उनके दोस्त राजेश वर्मा तीनों लोगों को उनकी एसयूवी गाड़ी के साथ 31 दिसंबर की रात 11.30 बजे अगवा कर लिया था। उनका कहना है कि उन्हें और गोपाल को एक नाले में हाथ-पैर-मुंह बांधकर फेंक दिया गया। आतंकवादी राजेश वर्मा को अपने साथ ले गए थे। अपहरण के कुछ देर बाद उन्होंने पठानकोट एयरबेस पर हमला कर दिया था।

बार–बार बदल रहे बयान
एसपी ने यह दावा भी किया था कि पीर पंजार दरगाह में उनकी काफी आस्था है और वह पहले भी कई बार वहां जा चुके हैं। हालांकि दरगाह संचालक सोमराज ने इस बात का खंडन करते हुए कहा है कि वह 31 दिसंबर को ही पहली बार दरगाह आए थे और तभी वह उनसे मिला था।

नीली बत्ती बनी संदेह का कारण
इसके साथ ही एनआईए एसपी द्वारा निजी वाहन पर नीली बत्तीे लगाने के मामले की भी जांच कर रही है। जबकि नियमानुसार ऐसा करना अवैध है। सूत्रों के अनुसार, इसकी के चलते नववर्ष की पूर्व संध्यां पर बिना की जांच के हर पुलिस चेक प्वाइंट पर यह गाड़ी आराम से निकलती गई और आतंकवादी पठानकोट एयरबेस तक पहुंच गए।

तीनों के बयानों में है विरोधाभास
पुलिस अधीक्षक (एसपी) सलविंदर सिह, उनके रसोइये मदन गोपाल और उनके दोस्त राजेश वर्मा, तीनों एक ही घटना के शिकार हैं। तीनों को आतंकियों ने अगवा किया था, लेकिन तीनों के बयान एक-दूसरे से मेल नहीं खा रहे हैं। यही वह बात है जिसने जांच एजेंसियों के मन में शक पैदा कर दिया है। इसी वजह से एसपी सबकी निगाहों में आ गए हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button