कंगना को बड़बोलापन पड़ा भारी, गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने भेजा नोटिस

डीएसजीएमसी ने कंगना से तुरंत सार्वजनिक तौर पर माफी मांगने की भी मांग की है। बता दें कि कंगना ने एक ट्वीट के माध्यम से किसान आंदोलन और बुजुर्ग महिलाओं के खिलाफ गलत भाषा का इस्तेमाल किया था।

नयी दिल्ली: लगातार जुबानी कर्यवाही का खेल अब कानूनी कार्यवाही तक पहुंच गया है। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (डीएसजीएमसी) ने किसान आंदोलन और पंजाबी समुदाय की बुजुर्ग महिलाओं के खिलाफ गलत भाषा का इस्तेमाल करने के मामले में बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत को कानूनी नोटिस भेजा है।

डीएसजीएमसी ने कंगना से तुरंत सार्वजनिक तौर पर माफी मांगने की भी मांग की है। बता दें कि कंगना ने एक ट्वीट के माध्यम से किसान आंदोलन और बुजुर्ग महिलाओं के खिलाफ गलत भाषा का इस्तेमाल किया था।

‘कंगना ने किसानों और प्रदर्शनकारियों को बदनाम करने के लिये किया ट्वीट’

डीएसजीएमसी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने अपने वकील राज कमल के माध्यम से कंगना को भेजे कानूनी नोटिस में कहा, ‘ कंगना ने जानबूझकर किसानों, प्रदर्शनकारियों और कार्यकर्ताओं को बदनाम करने के लिये ट्वीट/रिट्वीट किये जबकि किसान आंदोलन के तहत किसान दिल्ली में शांतिपूर्वक रोष प्रदर्शन कर रहे हैं।

ट्वीट में किया गया था आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल

कंगना ने अपने एक ट्वीट में एक फोटो भी साझा की थी जिसमें दो बुजुर्ग महिलायें थी। ट्वीट की भाषा बेहद आपत्तिजनक और असभ्य थी। इस ट्वीट में कंगना ने लिखा था, कि दादी/बुजुर्ग महिला 100 रुपये में रोजाना मिलती है और यह भी कहा था, कि यह भड़काऊ और प्रायाेजित मुहिम है।

किसानो और बुजुर्ग महिलाओ से कंगना मांगे माफ़ी: डीएसजीएमसी

गुरुद्वारा कमिटी का कहना है कि कंगना एक हफ्ते में किसानों और बुजुर्ग महिलाओं से बिना शर्त माफी मांगे और स्पष्टीकरण देकर अपना टवीट/रिटवीट वापिस ले। अगर कंगना एक हफ्ते में माफी नहीं मांगती है तो दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी बिना किसी अन्य नोटिस के कंगना को कानून के अनुसार सजा दिलाने का प्रयास करेगी।

ये भी पढ़ें- सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में एक नक्सली कमांडर को किया ढेर, विस्फोटक पदार्थ बरामद

Related Articles

Back to top button