Hacking alert : तो क्या इतना आसान है किसी का वाट्सएप्प उड़ाना

कैलिफ़ोर्निया : एन्ड टू एन्ड एन्क्रिप्शन की दुहाई देने वाले वाट्सएप्प का क्या फ़ायदा जब यूज़र अपने वाट्सएप्प अकाउंट का इस्तेमाल ही न कर पाए। आपकी जानकारी के लिए बता दें एन्ड टू एन्ड एन्क्रिप्शन का मतलब होता है की दो लोगों के बीच होने वाली चैट पूरी तरह मेहफ़ूज़ है। अब इतनी हिफाज़त किस काम की यूज़र अकाउंट ही न एक्सेस कर पाए।

असल में पूरा मसला यह है की हाल ही में Hacking की कुछ ऐसी घटनाएं सामने आई हैं जिसमे हैकर बेहद आसानी से ऐप यूज़र का अकाउंट ही ब्लॉक कर देता है। हाल ही में आई फोर्ब्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, हैंकिंग के इस प्रोसेस का पता लुई मरकेज़ कारपिनटेरो और अर्नेस्टो कैनाल्स पेरेना नाम के दो रिसचर्स ने लगा है। रिसचर्स की माने तो हैकर्स सिर्फ आपके फ़ोन नंबर से आपका वाट्सएप्प अकाउंट ब्लॉक कर सकता है। जिसके बाद इसे दुबारा एक्सेस करना लगभग नामुमकिन होगा। तो आइये जानते हैं हैकर्स  कैसे करते हैं यूज़र का अकाउंट ब्लॉक।

व्हाट्सप्प को ईमेल से लिंक करना है इस Hacking का तोड़

इस कड़ी में हैकर सबसे पहले आपके फोन नंबर पता लगाता है और उसी नंबर से किसी दूसरे डिवाइस पर वाट्सएप्प डाउनलोड करता है। इसके बाद आने वाली वेरिफिकेशन प्रोसेस में सारा खेल होता है। इसके तहत अगर बिना मँगाए खुद बा खुद 6 अंकों का otp मैसेज के ज़रिये आपके पास आना शुरू हो तो समझ जाइये गए आप इसकी चपेट में आ गए हैं। हैकर को यह कोड तो पता नहीं होता और वह जानबूझ कर गलत कोड एंटर करता रहता है।

नतीजतन अकाउंट ब्लॉक हो जाता है। जानकारों की माने तो एप का टू फैक्टर ऑथेंटिकेशन फीचर भी इसके सामने बेबस है। जानकारों की माने तो अगर इस तरह अपना अकाउंट गवाने से बचना है तो उसे अपने ईमेल से लिंक कर दें। तब रिफिकेशन कोड फोन पर SMS के जरिए ना आकर मेल पर आए। और सिर्फ इसी तरकीब से आप इस नए तरीके की हैकिंग से बच सकते हैं।

यह भी पढ़ें : तो क्या सच में SIRI ने कर दी है इतनी बड़ी खबर लीक

Related Articles