हार्दिक पांड्या बोले मुझे नहीं मिलना चाहिए था मैन ऑफ द मैच, ये खिलाड़ी था असली हकदार

ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 195 रन का लक्ष्य दिया था जिसे भारत ने 19.4 ओवर में चार विकेट पर 195 रन बनाकर हासिल कर लिया। पांड्या ने 22 गेंदों में तीन चौकों और दो छक्कों की मदद से नाबाद 42 रन बनाए।

सिडनी: ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे टी-20 मैच में नाबाद 42 रन की ताबड़तोड़ पारी खेल टीम को जीत दिलाने वाले और मैन ऑफ द मैच बने हार्दिक पांड्या ने रविवार को कहा कि बाएं हाथ के तेज गेंदबाज टी नटराजन को मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार मिलना चाहिए था।

ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 195 रन का लक्ष्य दिया था जिसे भारत ने 19.4 ओवर में चार विकेट पर 195 रन बनाकर हासिल कर लिया। पांड्या ने 22 गेंदों में तीन चौकों और दो छक्कों की मदद से नाबाद 42 रन बनाए। पांड्या को उनकी पारी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया लेकिन पांड्या ने कहा कि नटराजन को यह पुरस्कार मिलना चाहिए था जिन्होंने चार ओवर में मात्र 20 रन देकर दो विकेट लिए थे।

पांड्या ने कहा, “ऑस्ट्रेलिया ने शानदार बल्लेबाजी की और हमें सिर्फ सकारात्मक रहना था। मेरे ख्याल से नटराजन को मैन ऑफ द मैच मिलना चाहिए था क्योंकि सिडनी में गेंदबाज संघर्ष करते हैं लेकिन उन्होंने अच्छे खेल का प्रदर्शन किया।”

अपनी पारी के लिए पांड्या ने कहा, “मैं हमेशा उस समय को याद करता हूं जब हम बड़े लक्ष्य का पीछा करते हैं, इससे मदद मिलती है। यह काफी आसान है। मैंने स्कोरबोर्ड देखा और उसके अनुसार अपने खेल को खेला। मुझे पता था कि किस गेंदबाज को टारगेट करना है। मैं ऐसी स्थिति में पहले भी कई बार रहा हूं और मैंने पिछली गलतियों से सबक लिया। मेरा खेल आत्मविश्वास के साथ होता है और मैं इसके साथ चलता हूं लेकिन अति आत्मविश्वास से बचता हूं।”

यह भी पढ़े: IND vs AUS: लगातार दूसरा मैच जीतकर भारत ने अपने नाम की टी-20 सीरीज 

Related Articles

Back to top button