दंगे के आरोप में हार्दिक पटेल को 2 साल की सजा, BJP ऑफिस में हुई थी तोड़फोड़

0

अहमदाबाद: पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (पास) के अध्यक्ष और पाटीदार नेता हार्दिक पटेल को दंगा कराने के मामले में दोषी करार दिया गया है।  उन्हें इस मामले में 2 साल की सजा सुनाई गई है। बता दें कि साल 2015 में हार्दिक ने पाटीदारों के लिए आरक्षण की मांग की थी। इस दौरान उन्होंने लाखों की संख्या बल के साथ आंदोलन किया था।

हार्दिक पटेल को दो साल की सजा

पटेल आंदोलन के दौरान मेहसाणा के विषनगर में दंगा हो गया था। दंगे का आरोप हार्दिक पटेल पर लगा था। इस मामले में बुधवार को उन्हें दोषी करार दिया गया है। उनके अलावा 2 अन्य लोग को भी दोषी पाया गया है। वहीं इस मामले में 14 आरोपियों को बरी कर दिया गया।

क्या था पूरा मामला?

दरअसल, 2015 में हुए पाटीदार आरक्षण आंदोलन के दौरान बीजेपी विधायक ऋषिकेश पटेल के दफ्तर में तोड़फोड़ हुई थी। इस दौरान मेहसाणा के विषनगर में दंगा हो गया था। मामले में हार्दिक पटेल समेत 17 लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई थी। जिसमें कोर्ट ने हार्दिक पटेल समेत तीन लोगों को IPC की धारा 147, 148, 149, 427 और 435 के तहत दोषी करार दिया था. अब अदालत ने हार्दिक पटेल को दो साल की सजा सुनाई दी है।

loading...
शेयर करें