हरियाणा: किसानों का सावंत खेड़ा टोल नाके के करीब धरना शुरू

मौके पर मौजूद भारी पुलिस बल ने किसानों के इस प्रयास को सफल नहीं होने दिया लेकिन किसान टाेल नाके के निकट ही घरना देकर अनिश्चितकालीन अनशन शुरू कर दिया.

सिरसा: केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के विरोध में गत छह अक्टूबर से आंदोलन कर रहे हरियाणा के विभिन्न किसान संगठनों से संबद्ध किसानों ने आज डबवाली में दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-नौ पर गांव सावंत खेड़ा के करीब टोल नाके पर कब्जा करने का प्रयास किया. वे इसे फ्री किए जाने की मांग कर रहे थे.

मौके पर मौजूद भारी पुलिस बल ने किसानों के इस प्रयास को सफल नहीं होने दिया लेकिन किसान टाेल नाके के निकट ही घरना देकर अनिश्चितकालीन अनशन शुरू कर दिया. पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार आज सुबह ही क्षेत्र के किसान सांवत खेड़ा टोल प्लाजा के पास जुटने शुरू हो गए थे. किसानों के टोल प्लाजा पर कब्जा करने से रोकने के लिए बीती रात से ही पुलिस की पांच कम्पनियां तैनात कर दी गई थीं. किसानों ने केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए टोल प्लाजा की ओर बढ़ते हुए कब्जा करने की कोशिश की और टोल प्लाजा को टैक्स मुक्त करने की मांग उठाई. इस दौरान जिला प्रशासन की ओर से तैनात किए गए डबवाली के उपमंडल अधिकारी और ड्यूटी मजिस्ट्रेट अश्विनी कुमार, डबवाली के पुलिस उपाअधीक्षक कुलदीप बेनीवाल ने आंदोलन किसानों को काफी समझाया और टोल नाका पर कब्जा करने नहीं दिया.

आंदोलन की अगुवाई कर रहे हरियाणा किसान मंच के प्रदेश अध्यक्ष प्रहलाद सिंह भारुखेड़ा, जसवीर भाटी और एम.वी. सिंह ने अपने सम्बोधन में कहा कि केंद्र सरकार ने कृषि कानून बना कर किसानों पर कथित तौर पर कुठाराघात किया है इसलिए किसान राष्ट्रीय राजमार्गों पर केंद्र सरकार द्वारा संचालित टोल नाकों को नहीं चलने देंगे. उन्होंने कहा कि पड़ोसी प्रांत पंजाब में किसान संगठनों ने जिस तरह सभी टोल नाकों पर बैठकर उन्हें मुक्त करा लिया है उसी तर्ज पर अब हरियाणा में भी टोल नाकों को मुक्त कराया जाएगा. किसानों ने दोपहर के बाद टोल नाका के समीप अनिश्चितकालीन के धरना शुरू कर दिया.

यह भी पढ़े: राहुल गांधी ने किया ट्वीट, भाजपा पहुंची चुनाव आयोग

Related Articles

Back to top button