हाथरस कांड: योगी सरकार और पुलिस की मनमानी, मीडियाकर्मियों से की बदसलूकी

लखनऊ: हाथरस रेप मामले में योगी सरकार और पुलिस की मनमानी तीसरे आसमान पर पहुंच गई है। सरकार और पुलिस पीड़ित परिजनों से मिलने नहीं दे रही है। पुलिस सरेआम पत्रकारों से गुंडई कर रही है। ऐसे में सरकार और पुलिस पर सवाल खड़े करना लाजमी है कि यह सब ऐसा क्यों कर रहे हैं।

यूपी पुलिस
यूपी पुलिस

योगी सरकार और पुलिस की मनमानी

हाथरस रेप पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए विपक्ष अब पूरी तरह से मैदान पर उतर आया है। लेकिन यूपी सरकार और पुलिस की मनमानी इतनी चरम पर पहुंच गई है। वो किसी भी हद तक गिरने को तैयार है।

पीड़िता से मिलने जा रहे नेताओं की पुलिस सरेआम पिटाई कर रही है। सरेआम पत्रकारों के साथ पुलिस बदसलूकी कर रही है। ऐसे में योगी सरकार कान में रुई लगाए बैठी है। सरकार के हुक्मरान मेन गेट पर अपना पहरा जमाए हुए हैं। अगर यही पहरा और यही एक्शन पुलिस पहले कर लेती तो आज एक बेटी इस दुनिया को छोड़कर नहीं जाती।

मीडियाकर्मियों से बदसलूकी

योगी सरकार की पुलिस अब गुंडागर्दी पर अमादा हो गई है। हाथरस रेप कांड पर कवरेज कर रहे पत्रकारों से भी धक्का मुक्की कर रही है। पत्रकारों को परिजनों की आवाज उठाने के लिए रोका जा रहा है। एख निजी चैनल की महिला पत्रकार परिवार के घर तक पहुंचने की कोशिश की तो पुलिस ने उसके कैमरा मैन और महिला रिपोर्टर से बदसलूकी की। और दोनों को जबदर गाड़ी में बिठाकर कुछ दूरी पर ले जाकर छोड़ दिया।

ऐसे में सरकार, शासन और पुलिस प्रशासन से सवाल है कि किस की शह पर यह सब किया जा रहा है। आखिर पुलिस क्यों किसी को पीड़ित परिजनों से मिलने नहीं दे रही है। आखिर क्या छुपा रही है योगी सरकार।

ये भी पढ़ें: प्रदेश में सब अच्छा है, पुलिस की गुंडई है, नारी का अपमान है और बलात्कारियों का सम्मान है

Related Articles