हाथरस: मुखिया का शांत रहना किसी भयानक साजिश की तरफ इशारा करता है

सीएम योगी
सीएम योगी

हाथरस: हाथरस गैंगरेप पीड़िता के भाई ने मीडिया के सामने पुलिसिया दबंगई का भंडाफोड़ किया है. किसी तरह करीब 200 पुलिसकर्मियों के सुरक्षा घेरे को तोड़ते हुए पीड़िता का भाई मीडिया के कैमरे तक पहुंचा और पूरी आपबीती सुनाई. उसने बताया की पुलिस ने घर को चारो तरफ से घेर रखा है. छत से लेकर आंगन तक पुलिस डेरा डाले हुए है.

उसने बताया कि परिवार को धमकाया और मारा जा रहा है, बयान बदलने के लिए मजबूर किया जा रहा है. परिवार के सभी सदस्यों का मोबाइल फ़ोन तक जब्त कर लिया गया है. हम डर के साए में जी रहे है, सब लोग मीडिया से बात करना चाहते है लेकिन पुलिस नहीं चाहती कि हम मीडिया से बात करे. हमे बाहर निकलने की इजाजत नहीं है.

ये भी पढ़े- बलात्कारी सरकार ने महिला पत्रकारों को किया प्रताड़ित, हाथरस को बनाया कश्मीर 

रेप जिस परिवार की बच्ची के साथ हुआ अब प्रशासन उस परिवार को न्याय दिलाने के बजाय खुद उसके साथ अन्याय की सारी हदे पार कर रहा है. क्यों मीडिया और अन्य दलों के नेताओं को पीड़ित परिवार से नहीं मिलने दिया जा रहा है. आखिर क्या वजह है जो पीड़िता के घर को छावनी में तब्दील कर दिया गया है.

प्रदेश के मुखिया परिवार से मिलने के बजाय वीडियो कांफ्रेंसिंग कर रहे है. जब उनकी जवाबदेही बनती है तब वो चुप है. मुखिया का शांत रहना किसी भयानक साजिश की तरफ इशारा करता है.

क्या सच में हाथरस पीड़िता को न्याय मिलेगा, क्योकि प्रशासन ऐसा कोई माहौल बनाती नहीं दिख रही है. जिस प्रदेश का मुखिया खुद को धर्म और कर्म से जुड़ा हुआ मानता हो, उसी प्रदेश की एक बेटी का जबरन अंतिम संस्कार उसी की पुलिस पेट्रोल डालकर कर दे तो सवाल उठने लाजमी है.

 

ये भी पढ़े- प्रदेश में सब अच्छा है, पुलिस की गुंडई है, नारी का अपमान है और बलात्कारियों का सम्मान है

ये भी पढ़े- बलात्कारी सरकार ने महिला पत्रकारों को किया प्रताड़ित, हाथरस को बनाया कश्मीर 

Related Articles