कनाडा में Heat wave का कहर, दर्जनों लोगों की मौत, जानें पूरी रिपोर्ट

कनाडा और अमेरिका के कुछ हिस्सों में गर्मी से अत्यधिक तापमान बढ़ा है, जिससे कारण सैकड़ों लोगों की मौत हो गई है

नई दिल्ली: कनाडा (Canada) और अमेरिका (America) के कुछ हिस्सों में गर्मी (Heat wave) से अत्यधिक तापमान बढ़ा है। जिससे कारण सैकड़ों लोगों की मौत हो गई है। इस वक्त कनाडा का हाल बेहाल है। वह एक प्राकृतिक आपदा का सामना कर रहा है। जिसकी वजह से वहां के लोगों में डर का खौफ बैठ गया है।

लैपोइंट (Lapoint) ने एक बयान में बताया कि हमारी एजेंसी को कम से कम 486 अचानक और अप्रत्याशित मौतों की सूचना मिली है। असामान्य गर्मी की लहर के कारण देश में तापमान बढ़कर 49.5 डिग्री सेल्सियस हो गया है। जो एक सर्वकालिक रिकॉर्ड है। मौसम विशेषज्ञों ने तापमान में अचानक हुई बढ़ोतरी के लिए हीट डोम इफेक्ट (Heat Dome Effect) को जिम्मेदार ठहराया है।

गर्मी के गुंबदों का प्रभाव

कई मौसम वैज्ञानिकों और एनओएए जैसे संगठनों ने इन जलवायु परिवर्तनों का अध्ययन किया है और इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि गर्मी का गुंबद (Heat domes) आमतौर पर एक सप्ताह तक रहता है। उन्होंने कहा कि फॉर्मेशन इतना दलदली हो जाता है कि खड़ा रह नहीं पाता और गिर जाता है, फंसी हुई हवा को छोड़ देता है और प्रफुल्लित हो जाता है।

बिना एयर कंडीशनर (Air Conditioner) के रहने वाले अपने घरों के तापमान को असहनीय रूप से उच्च तक बढ़ते हुए देखते हैं, जिससे कनाडा और अमेरिका के कुछ हिस्सों में अचानक मौतें हो रही हैं। मौसम विशेषज्ञों के अनुसार गर्मी के फंसने से फसलों को भी नुकसान हो सकता है। वनस्पति सूख सकती है और सूखे का परिणाम हो सकता है।

यह भी पढ़ेNational Doctors Day पर पीएम मोदी ने डॉक्टरों को किया संबोधित, बोले- Thank You

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles