हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, इस तरह से किया गया सेक्स बनेगा तलाक की वजह

0

बठिंडा। हाल ही में पंजाब और हरियाणा कोर्ट ने आदेश दिया है कि शादीशुदा जीवन में आप अपने पार्टनर के साथ जबरन सेक्स नहीं कर सकते हैंं। अगर आप अपने साथी पर ऐसी चीज़े जबरदस्ती थोपते हैं तो वह आपसे तलाक के लिए अपील कर सकता है, लिहाज़ा वह तलाक वैध होगा। यह आदेश बठिंडा में रहने वाली युवती ने जब तलाक के लिए अर्जी दी और वजह में यह बात बताई तभी दिया गया।

क्या है मामला-
बठिंडा में रहने वाली महिला ने अपने पति पर यह आरोप लगाया था कि उसके पति ने उसके जबरन सेक्स करने की कोशिश की है। जिसके बाद उसने निचली अदालत में मुकदमा दर्ज कराया था। हालांकि, उसकी यह याचिका खारिज कर दी गई थी। उस दौरान कोर्ट ने मामले को गंभीरता से तो लिया था लेकिन महिला को इस बात का सबूत देने के लिए भी कहा था। जिसके बाद उसकी याचिका को खारिज भी कर दिया था क्योंकि किसी भी तरह से कोई मेडिकल साक्ष्य इस बात को स्पष्ट नहीं कर पाए थे। अब खबर आ रही है कि कोर्ट ने यह आदेश दिया है कि शादीशुदा जीवन में भी जबरन सेक्स जुर्म के तौर पर माना जाएगा। जिसपर महिला तलाक के लिए अपील कर सकती है।

कोर्ट ने दिया फैसला-
जस्टिस एमएम एस बेदी और जस्टिस हरिपाल वर्मा ने 1 जून को यह फैसला लेते हुए एक बयान जारी किया। हमने पाया है कि याचिकाकर्ता महिला के दावे को गलत तरीके से ठुकरा दिया गया है। सोडोमी, जबरन संबंध स्थापित करना और सेक्स के लिए अप्राकृतिक साधनों का इस्तेमाल जो कि दूसरे साथी पर जबरन किये जाते हैं-इससे इतनी पीड़ा होती है कि पीड़ित पक्ष अलग रहने के लिए मजबूर हो जाता है और ये तथ्य शादी को खत्म करने के लिए इजाजत मांगने का निश्चित रूप से एक आधार होगा। साथ ही अपने बयानों में यह भी कहा कि इस मामले में शादी को खत्म किया जा सकता है अगर हालात इस बात का प्रमाण दे सकें कि दोनों के बीच आप्राकृतिक सेक्स की स्थितियां थी।

loading...
शेयर करें