नोएडा एयरपोर्ट पर हाईस्पीड ट्रेन का होगा पहला पड़ाव,20 मिनट में तय करेगी 50 किमी का सफर

0

नई दिल्ली:दिल्ली से चलने के बाद यह ट्रेन करीब 20 मिनट में नोएडा एयरपोर्ट पहुंच जाएगी। यह एलिवेटेड रूट होगा। इस आधुनिक रेल सेवा से दिल्ली व नोएडा एयरपोर्ट के जुड़ जाने से हवाई सफर करने वाले हजारों लोगों को बड़ी राहत मिल जाएगी। रेल मंत्रालय प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी तक हाईस्पीड ट्रेन चलाने की परियोजना पर काम कर रहा है।इसकी डीपीआर नेशनल हाईस्पीड रेल कार्पोरेशन लिमिटेड (एनएचएसआरसीएल) को दी गई है। एनएचएसआरसीएल ने प्रारंभिक रिपोर्ट तैयार कर ली है, जिसमें नोएडा एयरपोर्ट के पास स्टॉपेज प्रस्तावित किया है।  इसके बाद आगरा, लखनऊ और वाराणसी स्टॉपेज होंगे। दिल्ली से छूटने के बाद नोएडा एयरपोर्ट ही पहला पड़ाव होगा। करीब 50 किलोमीटर की दूरी 20 मिनट में ही तय हो जाएगी। इसका फायदा यह मिलेगा कि नोएडा एयरपोर्ट से उड़ान सेवा लेने वाले दिल्ली के यात्री आसानी से यहां पहुंच सकेंगे।

फिलहाल, नोएडा एयरपोर्ट से 2023 में हवाई सफर करने की योजना है। इस सहमति से प्रदेश सरकार को एक और फायदा होगा। बिना किसी खर्च के दिल्ली से नोएडा एयरपोर्ट को जुड़ जाएगा। अब तक प्रदेश सरकार दिल्ली से मेरठ तक प्रस्तावित रैपिड रेल से जुड़वाने की कोशिश कर रही थी। इसे न्यू अशोक नगर स्टॉपेज से नोएडा-ग्रेटर नोएडा व यमुना एक्सप्रेसवे के पैरलल बनाने का प्लान था। अब उसकी जरूरत नहीं पड़ेगी। हालांकि, ग्रेटर नोएडा से नोएडा एयरपोर्ट तक मेट्रो चलाने की परियोजना अब भी कायम है। यह यीडा सिटी एरिया को जोड़ते हुए चलेगी।

ज्यूरिख कंपनी से करार का इंतजार
नोएडा एयरपोर्ट बनाने का जिम्मा ज्यूरिख कंपनी को मिल चुका है। कंपनी से करार होना है। कोरोना संकट के चलते विदेशों से विमान सेवा बंद है। इसलिए कंपनी के प्रतिनिधि करार के लिए नहीं आ पा रहे। यह करार बीते माह ही होना था, लेकिन कोरोना ने समय बढ़ा दिया है। अगर अगस्त माह में विमान सेवा शुरू हो जाती है तो कंपनी के साथ करार हो जाएगा और फिर प्रधानमंत्री के हाथों नोएडा एयरपोर्ट की नींव रखी जाएगी।

loading...
शेयर करें