डायल 108 से जुड़ेगी हाईवे की एंबुलेंस सेवा, मरीज को मिलेगा वक्‍त पर उपचार

लखनऊ: प्रदेश में नेशनल और स्टेट हाईवे का दिनोंदिन जाल बिछ रहा है. ऐसे में रफ्तार के साथ दुर्घटनाएं भी बढ़ी हैं. वहीं, घायलों को समय पर एंबुलेंस मिलने में मुश्किल हो रही है. लिहाजा, राजमार्गो पर अब नेटवर्क मजबूत होगा. जानकारी के मुताबिक जल्द ही हाईवे की एंबुलेंस को टोल फ्री नंबर 108 से जोड़ा जाएगा. अभी एनएचएआइ की एंबुलेंस का नंबर 1033 है. दरअसल, राजमार्गो पर हाई स्पीड के चलते दुर्घटनाएं हो रही हैं. वहीं समय से उपचार न मिलने से बहुत से व्यक्ति असमय मौत का शिकार हो जाते हैं.

ऐसे में सरकार जहां दुर्घटना का ग्राफ कम करने पर फोकस कर रही है. वहीं, समय से घायलों को उपचार मुहैया कराने का भी खाका तैयार कर रही है. इसके लिए एंबुलेंस सेवा अहम कड़ी है. क्वीन मेरी अस्पताल में जल्द ही आइसीयू वार्ड में चार बेड बढ़ाए जाएंगे. मरीजों को और सुविधा मिलेगी.

ओपीडी में रोज करीब तीन से चार सौ नए मरीज आते हैं, जिनमें करीब 25 से 30 मरीजों को भर्ती किया जाता है. वहीं, एनीमिया, पीलिया, बीपी व अन्य जटिल बीमारियों के चलते काफी मरीज रेफर होकर गंभीर स्थिति में आते हैं. ऐसे में इन्हें आइसीयू की आवश्यकता होती है, लेकिन उन्हें आइसीयू नहीं मिल पाता है.

दुर्घटना होने पर अधिकतर 108 को ही कॉल आती हैं, मगर इनकी लोकेशन दूर होती है. वहीं एनएचएआइ, स्टेट हाईवे की एंबुलेंस राजमार्ग पर ही होती हैं. ऐसे में 108 पर कॉल आते ही तुरंत हाईवे की एंबुलेंस पर ट्रांसफर कर दी जाएंगी. जिसके चलते स्टेट हाईवे, नेशनल हाईवे की सभी एंबुलेंस 108 इमरजेंसी सेवा से जोड़ने पर मंथन चल रहा है.

Related Articles