हिमाचल: 1901 के बाद हुई रिकॉर्ड बारिश ने किया 990 करोड़ रुपये का नुकसान, 35 की मौत

शिमला: हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने शुक्रवार को कहा कि मॉनसून की बारिश की वजह से राज्य को 990 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है और 35 लोग जान गंवा चुके हैं।

ठाकुर ने विधानसभा में एक सवाल का जवाब देते हुए कहा कि बारिश की वजह से अधिकतम नुकसान 12-13 अगस्त को दर्ज किया गया। उन्होंने कहा कि शिमला में 1901 के बाद से एक दिन में रिकार्ड बारिश दर्ज की गई। 12-13 अगस्त को सामान्य से 500 फीसदी अधिक ज्यादा बारिश हुई। उन्होंने कहा कि राहत और बचाव कार्य के लिए अब तक 230 करोड़ रुपये जारी किए जा चुके हैं।

उधर, हिमाचल प्रदेश में बारिश की वजह से कई-जगहों पर सड़कों तथा पुलों को भारी नुकसान हुआ है। शिमला जिले के कुट्ट, कुंडी, ख्युंचा गांवों के निवासी निवासी पहाड़ों से होकर कहीं भी जा रहे हैं। वहीं बाढ़ और भारी बारिश की वजह कांगड़ा जिले की कई नदियां उफान पर हैं। कई जगहों पर नदीं ने सड़कों में पचास फीट तक गहरे गढ्ढे कर दिये हैं।

राजधानी शिमला में रास्तों पर बने पुल भी क्षतिग्रस्त हुए हैं। हालांकि आईटीबीपी के जवानों ने एक टेम्पररी ब्रिज तैयार किया, लेकिन वह भी भारी बरिश की वजह से क्षतिग्रस्त हो गया।

भारी बार‍िश की वजह से राज्य की सभी प्रमुख नद‍ियां उफान पर हैं। नद‍ियों का जलस्‍तर बढ़ने से कई जगह बाढ़ जैसे हालात हैं। मौसम व‍िभाग की मानें तो कांगड़ा के अलावा ऊना, सोलन और श‍िमला में भी मूसलाधार बार‍िश हो सकती है।

Related Articles