सीएम शिवराज के मर्डर प्लान के तहत किया गया था पथराव: गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह

0

भोपाल : जन आशीर्वाद यात्रा पर निकले मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान के रथ पर रविवार की देर रात सीधी जिले के चुरहट विधानसभा क्षेत्र में कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा पथराव किया गया । इस पर एमपी की शिवराज सरकार में गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा है कि यह सीएम की हत्या के लिए साजिश रची गई थी।

मध्य प्रदेश के गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने बताया, ‘अब तक 9 लोग अरेस्ट हो चुके हैं। अरेस्ट किए गए सभी लोग कांग्रेस के प्रमुख पदाधिकारी हैं। सीएम पर पत्थरों से हमला किया गया है। इस हमले को ध्यान में रखकर सीएम शिवराज सिंह चौहान की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाई जा रही है।’

मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा, ‘यह पूरी तरह से हत्या की साजिश थी। मध्य प्रदेश में इस तरह की राजनीतिक परंपराएं नहीं थी। न राजनीतिक हिंसा होती थी, कांग्रेस ने सत्ता के लिए एक नई शुरुआत हिंसा की कर दी है। कांग्रेस सत्ता के लिए किसी भी सीमा तक जाने के लिए तैयार है। पिछले दिनों कांग्रेस के नेताओं में से किसी ने नालायक कहा, किसी ने मदारी कहा, किसी ने वेश्या कहा, किसी ने डायर कहा। यह कांग्रेस की हताशा और निराशा है, अब कांग्रेस हिंसा पर उतारू हो गई है।’

गौरतलब है कि हमले के बाद शिवराज सिंह चौहान ने चुरहट में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, कि ‘एक जगह किसी ने पत्थर फेंककर मार दिया तो शिवराज का क्या बिगड़ जाएगा। चोरी छिपे पत्थर फिकवाने वालों यह परिपक्वता की राजनीति नहीं है बल्कि बचकाना हरकत है।

काले झंडे हिला रहे हैं, शिवराज का क्या बिगड़ जाएगा। हम अपनी बात कहने आए हैं, तुम अपनी बात कहो लेकिन राजनीति को क्या हिंसक दिशा दी जाएगी। सुन लो राहुल अजय सिंह…अपनी जनता का सेवक हूं और मुझे दुनिया को कोई ताकत डिगा नहीं सकती। मैं अपनी मेहनत के दम पर यहां पहुंचा हूं, माता-पिता के सहारे नहीं। मुकाबला करना है तो मैदान में आ जाओ। चोरी छिपे पत्थर फिकवाते हो, यह शोभा नहीं देता।

ये भी पढ़ें……मध्यप्रदेश : विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार तय करने से पहले कांग्रेस ने रखी ये शर्त

वहीँ गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि यह पूरी तरह भाजपा द्वारा जान-बूझकर रची गई एक साजिश है। कांग्रेस कार्यकर्ताओं को मुख्यमंत्री के दौरे से पहले ही थानों में बैठा लिया गया था। जब चुरहट में चौहान की सभा चल रही थी, उस दौरान उनके रथ पर पत्थर का कोई निशान नहीं था। यकीन के लिए सीसीटीवी फुटेज देखा जाना चाहिए।

loading...
शेयर करें