दिल्ली हिंसा पर संसद में गृहमंत्री देंगे चुन-चुन कर जवाब, सर फोड़ेगे ठीकरा

नई दिल्ली:दिल्ली में हुई सांप्रदायिक हिंसा पर संसद में मचे बवाल पर सरकार जबाव देने को तैयार है इसमें सरकार अपनी रक्षा के बजाय आक्रामकता दिखाने की रणनीति तैयार की है। इस रणनीति के तहत संसद में सरकार दिल्ली हिंसा का ठीकरा विपक्ष पर फोड़ेगी। इसमें खासतौर पर गांधी परिवार के सदस्यों के नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ बयानों को जवाबी हथियार के रूप में इस्तेमाल करने की योजना है।

सरकार दिल्ली हिंसा पर होली के बाद 11 मार्च को चर्चा के लिए तैयार है। जहां तक सांप्रदायिक हिंसा का सवाल है तो सरकार इसके लिए विपक्ष के नेताओं द्वारा एक विशेष वर्ग को उकसाने के लिए दिए बयानों को जिम्मेदार ठहराएगी। जैसे कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सीएए के मामले में आर या पार की जंग का एलान किया था। वहीं राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने सीएए के विरोध में इसी तरह के बयान और ट्वीट किए थे।

गृहमंत्री चुन-चुन कर देंगे सबका जवाब

गृह मंत्री अमित शाह विपक्ष के सभी हमलों का चुन चुनकर जवाब देंगे। शाह इस दौरान सीएए के पक्ष में सरकार के अडिग रहने का भी सीधा संदेश देंगे। लोगों को भड़काने के मामले में अब तक आप के वर्तमान तो कांग्रेस के पूर्व पार्षद की गिरफ्तारी हुई है। इसके अलावा दिल्ली पुलिस की जांच में भी लोगों को भड़काने से संबंधित कई तथ्य सामने आए हैं। ऐसे में शाह विपक्ष पर सीधा निशान साधेंगे।
सूत्रों के अनुसार सरकार या पार्टी मंत्रियों-नेताओं के आपत्तिजनक बयान को लेकर विपक्ष दिल्ली विधानसभा चुनाव में मंत्री अनुराग ठाकुर, सांसद प्रवेश वर्मा के भड़काऊ बयान को मुद्दा बना रहा है।

Related Articles