गृह मंत्रालय ने इन 42 संगठन को घोसित किया आतंकवादी संगठन

नई दिल्ली : केंद्र सरकार (central government) ने मंगलवार को 42 संगठनों को गैरकानूनी गतिविधियों में संग्लिप्त पाए जाने पर कड़ा एक्शन लिए है। सरकार ने कड़ा एक्शन लेते हुए 42 संगठनों को आतंकवादी संगठन (Terrorist organization) घोषित कर दिया है। गृह मंत्रालय (home Ministry) ने गैरकानूनी गतिविधियों (रोकथाम) अधिनियम, 1967 की पहली अनुसूची के तहत इन संगठनों को सूचीबद्ध किया गया है।

गृह मंत्रालय ने कहा कि सरकार ने 42 संगठनों को आतंकवादी संगठन (Terrorist organization) घोषित किया है और गैरकानूनी गतिविधियों (रोकथाम) अधिनियम, 1967 की पहली अनुसूची में उनके नाम सूचीबद्ध किए हैं। मंत्रालय ने यह भी बताया कि अगस्त 2019 के बाद से, अलगाववादियों, ओवरग्राउंड वर्कर्स, पत्थरबाजों आदि सहित 627 लोगों को विभिन्न जगहों पर हिरासत में लिया गया है। मंत्रालय ने कहा कि इनमें से नियमित समीक्षा और जमीनी स्थिति के आधार पर, 454 लोगों को आज रिहा किया गया है।

पिछले 3 वर्षों में 638 आतंकियों को उतारा मौत के घाट

गृह मंत्रालय ने पिछले तीन वर्षों और चालू वर्ष के दौरान देश और जम्मू-कश्मीर के भीतरी इलाकों में आतंकवादी हमलों के दौरान मारे गए आतंकवादियों और व्यक्तियों की संख्या लोकसभा में विवरण दिया है। मंत्रालय ने बताया कि 2018 में जम्मू और कश्मीर में 257 आतंकवादियों की और 39 सामान्य नागरिकों की मौत हुई है। 2019 में 157 आतंकवादियों की और 39 सामान्य नागरिकों की मौत हुई है। वहीं 2020 में मंत्रालय ने बताया कि 221आतंकवादियों की और 37 सामान्य नागरिकों की मौत हुई है। इसके अलावा इस वर्ष 15 फरवरी 2021 तक 3 आतंकवादियों की और 1 सामान्य नागरिकों की मौत हुई है।

इसे भी पढ़े : गिर सकती है खट्टर सरकार, बीजेपी के सहयोगी दलों ने अविश्वास प्रस्ताव में कांग्रेस का किया समर्थन

वहीं जम्मू और कश्मीर सरकार ने बताया कि कोई भी व्यक्ति जम्मू और कश्मीर पब्लिक सेफ्टी एक्ट के तहत घर में नजरबंद नहीं है।

Related Articles