आज सवर्णों का भारत बंद, कई शहरों में धारा 144 लागू, गृह मंत्रालय ने कहा-हिंसा के लिए प्रशासन होगा जिम्मेदार

नई दिल्ली। पिछले दिनों आरक्षण और एसटी/ एससी कानून में बदलाव को लेकर दलितों के भारत बंद के बाद अब सवर्णों की तरफ से कथित भारत बंद का आह्वान किया गया है। सोशल मीडिया के जरिये इस भारत बंद को बुलाया गया है। इस भारत बंद को देखते ही केंद्र ने सभी राज्यों को सुरक्षा व्यवस्था नियंत्रण में रखने का आदेश दिया है।

भारत बंद

वहीँ इस बंद  को देखते हुए गृह मंत्रालय अलर्ट जारी करते हुए कहा कि अगर कहीं भी हिंसा हुई उसके लिए जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार होंगे। आपको बता दें कि पिछले दो अप्रैल को भारत बंद के दौरान देश के कई जगहों पर हिंसा हुई थी।

इस हिंसा में अलग अलग जगहों पर करीब 10 लोगों की जान चली गई थी। इसलिए सोशल मीडिया पर बुलाए इस भारत बंद को देखते हुए प्रशासन पहले से चुस्त और दुरुस्त है ताकि पहले जैसी हिंसा न हो। बंद के दौरान कोई अप्रिय घटना न हो उसके लिए सरकार ने एतिहातन कदम भी उठाएं हैं।

मध्य प्रदेश के  मध्य प्रदेश के भिंड में कर्फ्यू लगा है, इंटरनेट सेवा पर भी रोक लगाई गई है। एमपी के कई जिले में धारा 144 लागू है। दलितों के बंद के दौरान भिंड, मुरैना और ग्वालियर में सबसे ज्यादा हिंसा हुई थी।

इसके साथ ही राज्यों से सभी संवेदनशील जगहों पर गश्त तेज करने को कहा गया है, जिससे जानमाल के किसी भी नुकसान को रोका जा सके। राजस्थान के जयपुर में भी इन्टरनेट सेवा बंद कर दी गई है साथ ही धारा 144 लागू कर दी गई है। स्कूल-कॉलेज बंद कर दिए गए हैं।

दो अप्रैल को हिंसा से सबसे ज्यादा प्रभावित उत्तर प्रदेश के मेरठ के 6 जिलों को अलर्ट पर रखा गया है। गाजियाबाद, इलाहाबाद में धारा 144 लागू कर दी गई है। वहीँ सहारनपुर में इंटरनेट सेवाएँ रोक दी गई हैं।

Related Articles