ये घरेलू नुस्खे अपनाएं और माइग्रेन से निजात पाएं

0

नई दिल्ली। बदलते वक्त के साथ आए दिन कोई नई बीमारी दस्तक देती हैं जैसे ज़ुकाम, खांसी, बुखार इनमें से एक बीमारी का नाम है माइग्रेन। इसमें मरीज के सिर के आधे हिस्से में भयानक दर्द होता है, इसलिए इसे अधकपारी भी बोलते हैं। इसमें कभी-कभी मरीज़ को दर्द के कारण उल्टियां भी होने लगती हैं।

इस बीमारी की सबसे बड़ी परेशानी ये है कि इसका कोई इलाज अभी तक सम्भव नही है, इसलिए इससे बचाव ही इसका उपाय है। यदि आपको भी माइग्रेन की समस्या है तो इसके बचाव जान लें जिससे आप इसके भयानक दर्द से बचें रहें।

माइग्रेन

क्यों होता है माइग्रेन

  • माइग्रेन के सबसे बड़े कारण है, कम्प्यूटर टीवी मोबाइल। इनकी वजह से सिर पर और आंखों पर ज़ोर पड़ता है जिसकी वजह से माइग्रेन का दर्द होता है।
  • ज्यादा देर मोबाईल फोन के इस्तेमाल से माइग्रेन की समस्या हो जाती है। कई लोगों को भावनात्मक वजहों से माइग्रेन की दिक्कत होती है। इसीलिए जिन लोगों को हाई या लो ब्लड प्रेशर, ब्लड शुगर और तनाव जैसी समस्याएं होती हैं उनके माइग्रेन से ग्रस्त होने की आशंका बढ़ जाती है। हैंगओवर अर्थात् शराब पीने के बाद अक्सर माइग्रेन का दर्द होता है।
  • किसी तरह का संक्रमण और शरीर में विषैले तत्वों का जमाव भी इसकी वजह हो सकता है।
  • किसी भी चीज़ की एलर्जी के कारण भी माइग्रेन हो सकता हैं। कुछ लोगों के लिए खाने-पीने की चीजें भी एलर्जी का कारण बन जाती हैं।

माइग्रेन से बचाव के घरेलू उपाय

  • अगर माइग्रेन हो तो सबसे पहले हल्के हाथों से मालिश करनी चाहिए। हाथों के स्पर्श से मिलने वाला आराम किसी दवा से ज्यादा असर करता है। सरदर्द होने पर कंधों और गर्दन की भी मालिश करनी चाहिए। इससे दर्द से जल्दी राहत मिलती है।
  • माइग्रेन से बचने के लिए अपनी खान-पान और जीवनशैली में बदलाव कीजिए। तनाव और ज्यादा भागदौड के कारण भी माइग्रेन होता है। ज्यादा तेज सिरदर्द होने पर आप चिकित्सक से भी संपर्क कर सकते हैं।

माइग्रेन से बचाव के घरेलू उपाय

  • एक तौलिये को गर्म पानी में डुबाकर, उस गर्म तौलिये से दर्द वाले हिस्सों की मालिश कीजिए। कुछ लोगों को ठंडे पानी से की गई इसी तरह की मालिश से भी आराम मिलता है। माइग्रेन में बर्फ के टुकडों का भी प्रयोग किया जा सकता है।
  • सिर दर्द होने पर अपनी सांस की गति को थोड़ा धीमा कर दीजिए, लंबी सांसे लेने की कोशिश बिल्कुल मत कीजिए। आराम से सांस लेने से आपको दर्द के साथ होने वाली बेचैनी से भी राहत मिलेगी।
  • बटर और मिश्री को मिलाकर खाने से माइग्रेन में राहत मिलती है।
  • माइग्रेन में अरोमा थेरेपी सिरदर्द से राहत दिला सकती है। अरोमा थेरेपी में हर्बल तेलों का प्रयोग किया जाता है। इसमें हर्बल तेलों को एक तकनी‍क के माध्यम से हवा में फैला दिया जाता है और उसके बाद भाप के जरिए तेलों को चेहरे पर डाला जाता है।
  • माइग्रेन में दर्द होने पर कपूर को घी में मिलाकर सिर पर हल्के हाथों से मालिश कुछ देर तक मालिश कीजिए।
loading...
शेयर करें