इलाज़ में बिक गया घर लेकिन नहीं रुका आँख से खून, कर्जदारों से परेशान परिवार आत्महत्या को मजबूर

झाँसी: एक तरफ कोरोना महामारी दूसरी तरफ सालों की बीमारी. लोग घरों में बंद हैं उनके पास इलाज़ के लिए पैसे नहीं है. यही नहीं पुरानी गंभीर बिमारियों के लिए डॉक्टर नहीं हैं. कुछ तो ऐसे हैं उन्होंने अपने इलाज़ में अपना सबकुछ लगा दिया फिर भी वो इस समय बेहद परेशान हैं. ऐसा ही एक वाकया हमे सोशल मीडिया पर मिला. उत्तर प्रदेश के झाँसी के रहने वाले द्वारका प्रसाद पिछले 6 सालों से कैंसर की गंभीर बीमारी से ग्रसित हैं. उनके दाहिने आँख में कैंसर है जिस वजह से उनकी एक आँख निकल चुकी है. दूसरी से वे कम देख पाते हैं. यही नहीं उन्होंने इसके इलाज में अपनी पूरी संपत्ति तक बेच डाली.

बुरे हाल ये की आँख के कैंसर से पीड़ित द्वारका प्रसाद के पुत्र ने अपने विधायक से सरकार की तरफ से सहायता मिलने की आंस में मदद मांगी. बीजेपी से झाँसी सदर विधायक पंडित रवि शर्मा ने 23 अक्टूबर 2019 को पीड़ित पुत्र की बात सुनी और इलाज के लिए वर्तमान सरकार से इलाज कराने का निवेदन भी किया लेकिन देखा जाए तो आश्वाशन के सिवा कुछ नहीं मिला. आज भी कंगाली की कगार पर खड़ा परिवार कर्जदारों के अहसानों के तले घुट रहा है और आत्महत्या की कगार पर है.

एक बार फिर उनके पुत्र ने कोरोना महामारी के दौरान सदर विधायक पंडित रवि शर्मा के पास पहुंचकर मदद की गुहार लगायी है. जिसके बाद सदर विधायक ने आश्वाशन देते हुए अवगत कराया कि ये सहायता वर्तमान सरकार द्वारा ही होगी इसमें वे कुछ नहीं कर सकते. इसके सम्बन्ध में उन्होंने 11 मई को जिलाधिकारी झाँसी को पत्र लिखकर कैंसर पीडित द्वारका प्रसाद के लिए मुख्यमंत्री विवेकाधीन कोष से 2 लाख की सहायता जाँच उपरांत करने की मांग की है. बता दें पीड़ित का इलाज ग्वालियर के बीआईएमआर अस्पताल में चल रहा है.

वहीं पीड़ित परिवार ने झाँसी में कई NGOs से मदद की उम्मीद को लेकर संपर्क किया लेकिन कुछ सकारात्मक नहीं हुआ. अब पूरा परिवार खाना तक खाने का मोहताज़ हो गया है, परिवार बुरी तरह से क़र्ज़े में डूबा है. कैंसर पीड़ित के पुत्र का कहना है ‘अगर ऐसे वक़्त में सरकार से मदद नहीं करती है तो हम सब आत्महत्या की कगार पर चले जायेंगे’. क़र्ज़े वाले रोज़ घर के चक़्क़र लगाते हैं. प्रीतक ने कहा,’मै सरकार से हाथ जोड़कर निवेदन कर रहा हूँ मेरे पापा की जान को बचाया जाए और हमारा कर्ज़ा माफ़ हो जाए नहीं तो मेरा परिवार बिखर जाएगा.’

नोट : हम पूरी दुनिया परिवार की तरफ से आपसे निवेदन करते हैं अगर आप पीड़ित परिवार की मदद करना चाहते हैं तो सीधे कैंसर पीड़ित द्वारका प्रसाद के पुत्र प्रतीक रायकवार के मो. 8707301525 संपर्क कर सकते हैं. 

ये भी पढ़ें : Lockdown: 24 मई तक UP बंद, छूट रहेगी जारी, इनको सरकार देगी 1000 रुपये भत्ता

Related Articles

Back to top button