एयरपोर्ट पर कैसे पाई गईं कनिका कोरोना वायरस पॉजिटिव? एफआईआर पर उठे सवाल

कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले में बॉलीवुड सिंगर कनिका कपूर पर उत्तर प्रदेश पुलिस ने एफआईआर कर दी है. कनिका कपूर 9 मार्च को लंदन से लौटी थीं और बाद में उनके कोरोना वायरस संक्रमित होने की पुष्टि हुई. कनिका के खिलाफ की गई FIR में लिखा गया है- ‘कनिका 14 मार्च को लखनऊ आई थीं. कुछ दिन पहले लंदन गई थीं. उन्हें 14 मार्च को ही एयरपोर्ट पर कोरोना पॉजिटिव पाया गया था.’

हालांकि, बाद में लखनऊ पुलिस कमिश्नर ने एफआईआर की एक गलती स्वीकार कर ली. लखनऊ पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडे ने कहा- ‘सीएमओ की ओर से एफआईआर के लिए आई रिपोर्ट में गलती से उनके (कनिका कपूर) आने की तिथि 14 मार्च लिखी गई. असल में वह 11 मार्च को आई थी.’

वहीं, एफआईआर को लेकर कई सवाल उठ रहे हैं. क्या भारत या दुनिया के किसी एयरपोर्ट पर असल में कोरोना वायरस का टेस्ट होता है? सरकार की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, असल में कोरोना वायरस का टेस्ट सिर्फ लैब में होता है. एयरपोर्ट पर सिर्फ तापमान की जांच की जाती है.

ट्विटर पर गो एयर के एडवाइजर और स्पाइस जेट के पूर्व सीओओ संजीव कपूर ने कनिका कपूर के संबंध में किए जा रहे दावे पर सवाल खड़े किए हैं.

उन्होंने लिखा है- ‘कोई फ्लाइट से कैसे इंग्लैंड से भारत आ सकता है और इस बात को छिपा सकता है कि वह कहां से आ रहा है. इमिग्रेशन को फ्लाइट के बारे में पता होता है. 9 मार्च के वक्त इंग्लैंड से आने वाले लोगों को quarantine होने के लिए भी रिकमेंड नहीं किया जा रहा था. उस वक्त उसके शरीर में लक्षण नहीं थे और एयरपोर्ट पर टेंपरेचर जांच में कुछ नहीं निकला.’

Related Articles