भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने कैसे हासिल किया अपने लक्ष्य

0

शुरूआती दौर में ट्रेन में टॉयलेट के पास सोने को मजबूर हुए थे धोनी

टीम इंडिया को दो वर्ल्ड कप दिलाने वाले महेंद्र सिंह धोनी 38 साल के हो गए हैं. 7 जुलाई यानी आज उनका जन्मदिन है. कभी खड़गपुर स्टेशन पर टिकट चेक करने वाले लड़के के बारे में किसी ने सोचा न होगा कि वह एक दिन भारत का सफलतम कप्तान बन जाएगा. लेकिन धोनी ने इसे सच कर दिखाया. जीवन की शुरुआती जद्दोजहद से जूझते हुए वह दुनियाभर के क्रिकेट प्रशंसकों के आदर्श बन गए.उनके परिवार की जड़ें उत्तराखंड में हैं. उनके पिता पान सिंह 1964 में रांची स्थित मेकॉन में जूनियर पद पर नौकरी मिलने के बाद यहीं के होकर रह गए. वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई अपनी किताब ‘टीम लोकतंत्र’ में लिखते हैं कि जिस वक्त धोनी का जन्म हुआ उस समय उनके पिता एक पम्प ऑपरेटर के तौर पर काम करते थे. उनका परिवार एक बेडरूम वाले घर में रहता था. धोनी उस समय टेनिस गेंद से क्रिकेट खेला करते थे. धोनी बताते हैं कि वो उस समय छोटे और दुबले-पतले दिखते थे, इसलिए बाकी लड़कों ने उन्हें विकेटकीपर बना दिया.

बचपन से छक्के लगाने में माहिर थे माही

धोनी के स्पोर्ट्स टीचर केशव बनर्जी के मुताबिक माही बचपन से ही छक्के मारने में माहिर थे. वो स्कूल खत्म होने के बाद मैदान में पहुंच जाते थे और करीब 3 घंटे अभ्यास करते थे. स्कूल में अभ्यास के दौरान अक्सर वो पास बने घरों की खिड़कियों के कांच तोड़ देते थे और जब गार्ड पूछते थे, तो बहाना बना देते थे कि किसी और ने पत्थर मारा होगा.

1997 में एक स्कूल टूर्नामेंट में 16 साल के धोनी ने डबल सेंचुरी ठोकी और अपने पार्टनर के साथ 378 रनों की साझेदारी की. मजे की बात यह है कि यह मैच 40 ओवरों का था. इसका फायदा यह हुआ कि धोनी को मेकॉन क्रिकेट क्लब में एंट्री मिल गई और उन्हें लोग पहचानने लगे. उनके टीचर बनर्जी के मुताबिक धोनी विकेट के पीछे बॉल को ऐसे लपकते थे जैसे एक मछली मुंह खोले गेंद को पकड़ने की कोशिश कर रही हो.मेकॉन क्रिकेट क्लब के बाद धोनी ने स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड की लोकल टीम में शामिल हो गए. यहां उनकी पहली कमाई हुई और उन्हें वेतन के रूप में 625 रुपये मिले. यह उनकी पहली कमाई थी. इसके बाद धोनी सेंट्रल कोलफील्ड्स लिमिटेड (सीसीएल) क्लब से जुड़े. यहां उनकी कमाई में भी इजाफा हुआ, जो बढ़कर 2000 रुपये हो गया. यही नहीं, धोनी को यहां 200 रुपये बोनस भी मिलता था, क्योंकि वो एक मैच विनर खिलाड़ी थे.

2001 में धोनी की किस्मत ने करवट ली और उन्हें बंगाल के खड़गपुर में स्पोर्ट्स कोटा से दक्षिण-पूर्व रेलवे में नौकरी मिली. यहां उन्हें क्लास 3 की टिकट चेकर की नौकरी मिली और उनका वेतन 3000 रुपये था. इसके बाद धोनी को किस्मत का साथ मिला और वो तीन महीने के भीतर ही स्पोर्ट्स डिपार्टमेंट में शामिल हो गए. हालांकि वो रेलवे की टीम में जगह नहीं बना पाए. इसके बाद उन्होंने जीवन का सबसे बड़ा फैसला लेने के लिए खुद को तैयार किया. 2003 में 22 साल के धोनी ने रेलवे की नौकरी छोड़ दी और अपनी फिटनेस को ठीक करने में जुट गए. इसके बाद बंगाल के पूर्व कप्तान प्रकाश पोद्दार को ईस्ट जोन के लिए नए टैलेंट को खोजने की जिम्मेदारी मिली. उन्होंने धोनी के खेल को देखा और रिपोर्ट चयनकर्ता कमेटी के चेयरमैन किरण मोरे तक पहुंचाई.

मोरे हुए धोनी के मुरीद, ए टीम में हुआ चयन किरण मोरे ने धोनी के खेल को देखा और उनके मुरीद हो गए. यह वो दौर था जब टीम इंडिया के पास विशेषज्ञ विकेटकीपर नहीं था. राहुल द्रविड़ को पार्ट टाइम विकेटकीपिंग करनी पड़ रही थी. 2004 में मोहाली में नॉर्थ और ईस्ट जोन के बीच मुकाबला हुआ जिसे सभी चयनकर्ताओं ने देखा. इसमें धोनी ने विकेटकीपिंग की और खबर फैला दी गई कि दीपदास गुप्ता को चोट लगी है उनकी जगह धोनी कीपिंग करेंगे. यहां धोनी ने 5 कैच लपके और चौथे दिन 47 गेंदों में 8 चौके और 1 छक्के की मदद से 60 रन बनाए. यहां उन्होंने आशीष नेहरा की गेंद को हुक कर चौका मारा और चयनकर्ताओं का दिल जीत लिया. इसके बाद उन्हें इंडिया-ए टीम के लिए चुन लिया गया.

केन्या में उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ दो शतक लगाए. इसके बाद संदीप पाटिल धोनी के फैन हो गए. धोनी की किस्मत ने एक बार फिर करवट ली और दो शतक लगाने के बाद उन्हें 2004 में बांग्लादेश के खिलाफ वनडे मैच में टीम इंडिया के लिए अपना पहला मैच खेला. लेकिन धोनी की शुरुआत अच्छी नहीं रही और शुरू की चार इनिंग में सबसे ज्यादा स्कोर 12 रन था. इसके बाद विशाखापत्तनम में धोनी ने पाकिस्तान के खिलाफ 148 रनों की धमाकेदार पारी खेली. इस पारी के साथ ही धोनी की टीम इंडिया में बतौर विकेटकीपर बल्लेबाज जगह पक्की हो गई. धोनी इस पारी को याद करते हुए बताते हैं कि अगर वो 5वें मैच में रन नहीं बनाते तो चयनकर्ता शायद उन्हें ड्रॉप कर देते और करियर का यहीं अंत हो जाता.

…जब ट्रेन के टॉयलेट के पास सोकर गुजारी रात राजदीप अपनी किताब में बताते हैं कि धोनी 2016-17 रणजी सीजन में ट्रेन से यात्रा कर रहे थे. जूनियर क्रिकेट के तौर पर वो कई बार बिना रिजर्वेशन वाले डिब्बों में सफर कर चुके थे. यहां तक कि धोनी को कई बार टॉयलेट के आसपास वाली जगहों में सोना पड़ता था. अब वो उस जगह पहुंच गए थे जहां उन्हें एसी के फर्स्ट क्लास डब्बे में सीट दी जा रही थी और साथ ही फैंस से बचने के लिए सिक्योरिटी भी मुहैया करवाई गई थी.

loading...
शेयर करें