हुआवे का भारत में शोध एवं विकास पर जोर

नई दिल्ली: हुआवे कंज्यूमर बिजनेस ग्रुप (सीबीजी) ने इनोवेशन और डिजिटल डिवाइड दूर करने पर जोर देते हुए भारत में एआई क्षमताआंे के इनोवेशन पर ध्यान केंद्रित किया है तथा भारत में शोध एवं विकास पर जोर देने के लिए विशेष टीम का गठन किया है। हुआवे ने बुधवार को एक बयान में कहा कि कम्पनी स्मार्टफोन सेक्टर का भविष्य संवारने में एआई की अहमियत समझती है इसलिए ग्राहकों पर शोध करने के साथ अपने ऑफर के लोकलाइजेशन पर जोर देती है ताकि ग्राहकों को मोबाइल फोन का अब तक का सबसे अच्छा अनुभव मिले।

कंपनी ने कहा कि अनुमान यह है कि 2025 तक स्मार्टफोन के 90 प्रतिशत से अधिक एंड यूजर उनके हिसाब से तैयार और अधिक स्मार्ट डिवाइस का लाभ लेंगे। चूंकि एआई से उपभोक्ताओं को स्मार्टफोन का बेहतर अनुभव मिलता है इसलिए डिवाइस, चिप्स और क्लाउड सेवाओं की बुनियादी क्षमताएं एक नए, उच्च स्तर पर ले जाने पर जोर दिया जाएगा।

कंपनी ने कहा कि ऐसे में चिप्स और क्लाउड की बुनियादी तकनीकियां विकसित करने में सक्षम हुआवे के लिए यूजर को बेहतर अनुभव देना आसान होगा और स्मार्ट डिवाइस के नए युग के लिए भावी स्मार्टफोन की रूप-रेखा तय होगी। हुवावे पी20 प्रो सीरीज की लांच के बाद कम्पनी के नए प्रोडक्ट में आप एआई की आधुनिक क्षमताएं देखंेगे।

हुआवे कंज्यूमर बिजनेस ग्रुप (सीबीजी) के एआई प्रोडक्ट मैनेजमेंट के निदेशक जेम्स लु ने कहा, “हुआवे में हमारा मकसद एक एलीट मोबाइल ईकोसिस्टम का विकास करना है और ऐसे प्रोडक्ट पेश करना है जो न केवल यूजर को बेहतर अनुभव देंगे बल्कि उपभोक्ताओं के एक दूसरे के संपर्क में बने रहने का नया, बेहतर नजरिया देंगे। इंटेलिजेंट स्मार्टफोन अपनी एआई क्षमताओं के साथ हमारे व्यक्तित्व का विस्तार करेंगे और हमें बिना किसी रुकावट आपस में संपर्क-संवाद करने का अवसर देंगे। हमारे चारों ओर की दुनिया को महसूस करने का नया नजरिया मिलेगा।”

उन्होंने बताया, “शोध एवं विकास में निवेश के दृष्टिकोण से हम दुनिया की चोटी की कम्पनियों में एक हैं और हम दुनिया के सर्वश्रेष्ठ इंटेलेक्च ुअल रिसोर्सेज (बौद्धिक मानव संसाधनों) के साथ काम करते हुए इनोवेशन की क्षमता बढ़ा रहे हैं। हम भारत के अंदर असीम संभावना देखते हैं और यहां इनोवेशन के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम भारत में अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी पेश करते रहेंगे।”

Related Articles