पुलिस की भारी चूक, कस्टडी में युवती ने की ऐसी हरकत की पुलिस के छुटे पसीने

गोंडा: यूपी के गोंडा जिले में पुलिस की भारी चूक सामने आई है। पुलिस की कस्टडी में एक युवती ने अपनी दाएं हाथ की नस काटकर आत्महत्या करने की कोशिश तक कर ली और पुलिस हाथ मलती रही। कोतवाली पुलिस इस मामले में अपनी चूक छिपाने के लिए लीपापोती करने में जुटी है। इस घटना से नाराज हुए एसपी ने पूरे मामले की जांच अपर पुलिस अधीक्षक शिवराज को सौंप दी है।

जानकारी के मुताबिक, मनकापुर कोतवाली में करीब सात दिन पहले युवती के पिता ने अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने मेहनत करके युवती को बरामद कर लिया था और उसका 164 का बयान कराया जाना था। इसे लेकर महिला पुलिस उसे अपनी कस्टडी में रखी थी। इसी दौरान युवती ने अपने दाहिने हाथ की नस को काट कर आत्महत्या करने की कोशिश की। आनन-फानन में उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया जहां उसका इलाज हुआ है।

पुलिस की भारी चूक

हालांकि, कोतवाली पुलिस और सीओ संजय तलवार ऐसी किसी घटना से इन्कार करते रहे। युवती को कोतवाली परिसर में बने महिला आरक्षी आवास पर रखा गया था। जबकि उसे वन स्टाप सेंटर में रखा जाना चाहिए था, लेकिन पुलिस कर्मियों की इस गलती की वजह से भारी चूक हुई है। पुलिस अधिकारी के मुताबिक यह के वन स्टाप सेंटर में निराश्रित व बरामद की गई महिलाओं को रखा जाता है। जिससे उन लोगों की समस्याओं के निस्तारण के साथ उनका बयान भी लिया जा सके, लेकिन यहां ऐसा नहीं हो रहा है।

अधिकारी का बयान

एसपी संतोष कुमार मिश्र के मुताबिक, इस पूरे मामले में जांच अपर पुलिस अधीक्षक को सौंपी है। किस कारण से युवती को वन स्टाप सेंटर नहीं भेजा गया है, इसकी भी जांच कराई जाएगी। इसके लिए सीओ व प्रभारी निरीक्षक मनकापुर के खिलाफ प्रारंभिक जांच के आदेश दिए गए हैं। जांच के बाद इस पूरे मामले का सच पता चलेगा।

Related Articles