‘मेरी जन्मपत्री में लिखा है, मैं पार्टी बदल सकता हूं’

Shatrughan_sinha1

नई दिल्ली। बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा कभी भी पार्टी छोड़ सकते हैं क्योंकि उनकी जन्मपत्री में लिखा है कि वह पार्टी बदल सकते हैं। यह बात खुद शत्रुघ्न सिन्हा ने कही है। लेकिन इसी के आगे वह कहते हैं कि बीजेपी उनकी आाखिरी पार्टी है। अगर बीजेपी उनको पार्टी से निकालती है तो वह किसी भी पार्टी का दामन नहीं थामेंगे। बीजेपी सांसद ने यह सारी बातें अपनी ‘एनीथिंग बट खामोश’ किताब के लॉन्च करने से पहले एक निजी न्यूज चैनल से कही।

narendra-modi-3

पीएम मोदी का किया समर्थन
पठानकोट में आतंकी हमले के बीच बीजेपी नेता शत्रुघन सिन्हा ने पीएम नरेंद्र मोदी की पाकिस्तान यात्रा का समर्थन करते हुए कहा है कि किया है हमारे पीएम ने अच्छी नीयत के साथ यात्रा की थी और सभी को पाकिस्तान के मसले पर एक सुर में बोलना चाहिए।

लॉन्च होगी किताब
शत्रुघ्न‍ सिन्हा अपनी किताब ‘एनीथिंग बट खामोश’ को लेकर बोले कि पीएम मोदी अच्छी नीयत लेकर पाकिस्तान गए थे, लेकिन भले उसका अंजाम कुछ भी हुआ हो। आज सबको एक आवाज में पाकिस्तान के मुद्दे पर बोलना चाहिए।

शत्रु ने की मोदी की प्रशंसा
बीजेपी के शत्रु ने प्रधानमंत्री और केंद्र सरकार की प्रशंसा करते हुए कहा कि मोदी जी टैलेंटेड इंसान हैं, लेकिन अगर वह और यशवंत सिन्हा सरकार का हिस्सा होते तो सोने पर सुहागा होगा।

हमने खुद किया पीएम को फेल
शत्रुघ्न सिन्हा ने बिहार में पार्टी को मिली हार का ठीकरा पीएम मोदी के सिर फोड़ने को सिरे से खारिज किया। उन्होंने कहा कि बिहार में जितनी भी सीटें आईं वह पीएम मोदी की मेहनत से आईं। बिहार में कुछ लोगों की वजह से पार्टी का ये हश्र हुआ है। ये वो लोग हैं जिनके अपने स्वार्थ हैं। सच तो यह है कि प्रदेश में हमने अपने पीएम को खुद फेल कर दिया।

बीजेपी मेरी आखिरी पार्टी है
बीजेपी सांसद को कहीं न कहीं पार्टी से दरकिनार करने का अफसोस भी है। उन्होंने कहा कि पार्टी ने यदि मुझको बिहार में दरकिनार कया है तो इसका खामियाजा पार्टी को भुगतना पड़ेगा। लेकन इसमें पीएम मोदी का कोई दोष नहीं है। मैंने पार्टी को पहले ही कहा था कि मेरा उपयोग नहीं किया तो इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा।

twitter-logo

ट्विटर का लिया सहारा
अपनी किताब के बारे में बताते हुए शॉटगन ने कहा कि मैंने अपनी किताब में पार्टी के खिलाफ कुछ भी नहीं लिखा है। क्रिया के बराबर और विपरीत प्रतिक्रिया होती है, यह न्यूटन का सिद्धांत है। बीजेपी मेरी पहली और आखि‍री पार्टी है। पार्टी ने मुझे अपनी बात रखने के लिए मंच नहीं दिया, इसलिए मैंने अपनी बात ट्विटर के जरिए कही।

advani-joshi

बुजुर्ग नेताओं को न करें नजरअंदाज
शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि यदि बीजेपी को लाल कृष्ण आडवाणी, यशवंत सिन्हा और मुरली मनोहर जोशी का मार्गदर्शन मिलता है तो पार्टी और सरकार दोनों के लिए बहुत अच्छा रहेगा। उन्होंने कहा, ‘ये किसी भी पद के लिए उपयुक्त हैं। अगर इन लोगों को आगे लाया जाए तो पार्टी और देश के लिए अच्छा रहेगा। सिन्हा ने पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के लिए कहा कि दिल्ली में दो-तीन सीट जीतने के कारण दो-तिहाई लोग उनका मजाक उड़ाते हैं।

kirti azad

‘कीर्ति पर न हो कार्रवाई’
बीजेपी सांसद ने आगे कहा कि पार्टी अगर सांसद कीर्ति आजाद के खि‍लाफ कार्रवाई करती है तो इससे गलत संदेश जाएगा। शत्रुघ्न सिन्हा ने पार्टी और आरएसएस से अपील की है कि वो आजाद के निलंबन को वापस ले लें। उन्होंने आगे कहा कि पार्टी को महंगाई और भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने की जरूरत है। मोदी सरकार को इस मुद्दे से पीछे नहीं हटना चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button