मैं अच्छी कहानियों की तलाश में रहता हूँ : आयुष्मान खुराना

0

अपनी पहली फिल्म विक्की डोनर के बाद से, आयुष्मान खुराना ने ऐसी स्क्रिप्ट चुनी हैं जो पथ-प्रदर्शक रहा हैं। आयुष्मान ने फिल्मों को चुनने के बारे में बात करते हुए कहा की नेशनल अवार्ड्स उनकी स्क्रिप्ट की समझ के लिए बहुत बड़ी मान्यता है क्योंकि वह केवल उन फिल्मों का चयन करते हैं जिन्हें वह सिनेमाघरों में देखना पसंद करेंगे। “मैं उन कहानियों की तलाश करता हूं जो अद्वितीय हैं और अनिवार्य रूप से आम आदमी के बारे में होता हैं। एक अभिनेता के रूप में, मैं सही पटकथा चुनने में विशवास करता हूं क्योंकि, आज, फिल्मों की कहानी और पसंद यह सब मायने रखती है। मुझे लगता है कि मैं जीवन में एक ऐसे मुकाम पर हूं जहां मैं बेहतरीन प्रोजेक्ट कर सकता हूं|

उनके बारे में अधिक दिलचस्प बात यह है कि वह इकलौते ऐसे स्टार है जिसने अधिक फिल्में न करते हुए फ़िल्म के विषय पर ध्यान दिया है, और मसाले से ज़्यादा फ़िल्म के कंटेंट को तव्वजों देते हुए भारतीय सिनेमा को एक नई दिशा में अग्रसर किया है।

आयुष्मान कहते हैं, ‘मैं अच्छी कहानियों की तलाश में रहता हूं। कहानियां जो हमें आगे ले जाती हैं हमारा मनोरंजन करती हैं और बातचीत को शुरू करतीं हैं। मुझे ऐसी कहानियां पसंद हैं जिनसे लोग खुद का जुड़ाव महसूस कर सकें जो प्रेरणादायक हों और हमें विचारशील बनाती हों। मैंने सक्रिय रूप से इस तरह की कहानियों की तलाश की है और अपने करियर में मैं काफी भाग्यशाली रहा हूं।’  मैं खुद को बेहद भाग्यशाली मानता हूं कि मेरी चार फिल्मों ने राष्ट्रीय पुरस्कार जीते हैं और मैंने सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का राष्ट्रीय पुरस्कार भी हासिल किया है।

loading...
शेयर करें