कसाई बनने की थी तमन्ना लेकिन सबसे बड़े धर्मगुरु बन गए

Untitled

वेटिकन सिटी। ईसाइयों के सबसे बड़े धर्मगुरु पोप फ्रांसिस ने गुरुवार को खुलासा किया कि बचपन में वे कसाई बनने का सपना देखते थे। उनकी दिली तमन्‍ना थी कि बड़े होकर इसी काम को अपना पेशा बनाएं।

यही नहीं, जब वे अपनी मां और दादी के साथ बाजार जाते थे, तो कसाइयों के काम की तारीफ करते नहीं थकते थे।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, बच्चों का गाना बजाने वालों के एक सदस्य के सवाल पर वेटिकन सिटी में पोप ने बचपन के इस सपने का खुलासा किया।

पोप ने कहा कि कसाई अपने चाकू का इस्तेमाल एक कला की तरह करता है, जिसकी बचपन में वह बेहद प्रशंसा करते थे। उन्होंने कहा, ‘और बाद में मेरा दिमाग बदल गया।’

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button