बाजार में धूम मचाने आ रहा है ICICI प्रूडेंशियल IPO

0

नई दिल्‍ली। प्राइवेट सेक्टर के बड़े बैंक ICICI बैंक की सब्सिडियरी आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस कंपनी धूम मचाने की तैयारी में है।  ICICI प्रूडेंशियल IPO (इनीशियल पब्लिक ऑफर) 19 सितंबर को मार्केट में लॉन्च होगा और 21 सितंबर को बंद हो जाएगा। भारत में किसी इंश्योरेंस कंपनी का यह पहला आईपीओ है और पिछले 6 साल के दरम्यान में ये सबसे बड़ा आईपीओ है। कंपनी का  ICICI प्रूडेंशियल IPO के जरिए 6057 करोड़ रुपये जुटाने की योजना है। कंपनी इसके तहत 18,13,41,058 तक इक्विटी शेयरों की पेशकश करेगी।

ICICI प्रूडेंशियल IPO

ICICI प्रूडेंशियल IPO से 6057 करोड़ रुपये जुटाएगी कंपनी

कंपनी के कार्यकारी निदेशक पुनीत नंदा के मुताबिक  ICICI प्रूडेंशियल IPO के लिए रेट 300-334 रुपये प्रति इक्विटी शेयर तय किया गया है और इससे 6057 करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य है। वित्त साल 2015-16 में ICICI प्रूडेंशियल लाइफ का कुल प्रीमियम कारोबार 19,164 करोड़ रुपये का था, जबकि बाजार में कंपनी की हिस्सेदारी करीब 11.3 फीसदी रही थी। इससे पहले कोल इंडिया ने आईपीओ के जरिए मार्केट से इससे ज्यादा रकम जुटाई गई थी।

 ICICI प्रूडेंशियल IPO पर जानकारों की नजरिया

बाजार पर पैनी नजर रखने वालों की मानें आईसीआईसीआई प्रूंडेशियल के आईपीओ में लोगों को पैसे लगाने चाहिए, क्योंकि कंपनी के मैनेजमेंट और कारोबार काफी मजबूत है। जानकार ये भी कहते हैं कि भविष्य में आईसीआईसीआई प्रूंडेशियल के आईपीओ में निवेश से अच्छा रिटर्न मिलने की संभावना है। क्योंकि आईपीओ का साइज बड़ा है। कुछ जानकार तो 6 महीने के अंदर ही बेहतर रिजल्ट की उम्मीद कर रहे हैं।

दो कंपनिया का ज्वाइंट वेंचर है ICICI प्रूडेंशियल

सेबी में जमा किए गए कागजात के मुताबिक ICICI बैंक इंश्योरेंस जेवी में इश्यू के जरिए 12.65 फीसदी हिस्सेदारी बेचेगा। आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल ICICI बैंक और प्रूडेंशियल कॉप होल्डिंग्स का ज्वाइंट कंपनी है। बैंक इंश्योरेंस कंपनी के 1.81 करोड़ शेयर बैंक के कर्मचारियों के लिए रिजर्व रखेगा। आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस में आईसीआईसीआई बैंक की 68 फीसदी हिस्सेदारी और प्रूडेंशियल कॉर्प की 26 फीसदी हिस्सेदारी है। इसी साल के अप्रैल महीने में ही बैंक के बोर्ड ने लिस्टिंग के जरिए स्टेक सेल की योजना को मंजूरी दी थी।

दूसरी कंपनियां भी आईपीओ लाने की तैयारी में

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल के बाद एचडीएफसी स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस के भी आईपीओ आने की संभावना है, कंपनी ने इसके लिए अर्जी दी है। अगर सबकुछ ठीक रहा तो जल्द ही एचडीएफसी स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस के आईपीओ लॉन्च कर दिए जाएंगे। आईआरडीए के पास जुलाई के अंत तक 55 इंश्योरेंस कंपनियां रजिस्टर हैं। इनमें से 32 ने 10 साल पूरे कर लिए हैं।

इंश्योरेंस कंपनियों को IRDA की सलाह

हाल ही में आईआरडीए ने एक डिस्कशन पेपर जारी किया था, जिसमें इंश्योरेंस कंपनियों को अनिवार्य लिस्टिंग पर सलाह दी गई थी। डिस्कशन पेपर में प्रस्ताव है कि सभी इंश्योरेंस कंपनियों को 3 साल में लिस्टिंग अनिवार्य की जाए। प्रस्ताव के मुताबिक इस फैसले में ऐसी सभी जनरल इंश्योरेंस कंपनियां हिस्सा लेंगी जो पिछले 8 सालों से सक्रिय हों। इसके अलावा ऐसी लाइफ इंश्योरेंस कंपनियां इस फैसले के दायरे में रहेंगी जो 10 साल से आपरेशंस संभाल रही हों।

क्या है आईपीओ

आईपीओ को इनीशियल पब्लिक ऑफर के अलावा पब्लिक इश्यू के नाम से भी जाना जाता है। तमाम कंपनियां आईपीओ के जरिए पूंजी जुटाती हैं और उसे अपने कारोबार को बढ़ाने में लगाती हैं। निवेशकों के लिए आईपीओ में निवेश हाल के दिनों में फायदे का सौदा साबित हुआ है. नए निवेशक के लिए ये एक बेहतर प्लेटफॉर्म होता है जिसके जरिए वो अपने मनपसंद कंपनियों के आईपीएओ में निवेश कर कारोबार में हिस्सेदार बन सकते हैं। जिसके बाद कंपनी के फायदे में निवेशक को हिस्सेदारी मिलती है.

आईपीओ में निवेश के तरीके

एक बेहतरीन आईपीओ का चुनाव करने के लिए कई बातों का ध्यान रखना चाहिए। जिस कंपनी में निवेश कर रहे हैं उस कंपनी को रेटिंग एजेंसियों द्वारा दी गई रेटिंग की जांच करें। रेटिंग एजेंसियां कंपनी के फंडामेंटल को देखकर रेटिंग करती हैं। इसके अलावा कंपनी के बिजनेस के साथ-साथ आईपीओ की कीमत भी आंक लें, ब्रोकर्स की रिपोर्ट पर भी सरसरी निगाह डाल लेनी चाहिए, यही नहीं, कंपनी के प्रोमोटर्स की जानकारी जुटा लेने के बाद ही किसी कंपनी में निवेश का रास्सा अपनाना चाहिए।

loading...
शेयर करें