भारतीय के पास पैसे नही थे तो सुषमा स्वराज ने की ऐसे मदद

0

सुषमा स्वराज ने शनिवार को एक बार फिर विदेश में मुश्किल फंसे भारतीय की मदद को हाथ बढ़ाए हैं. ट्विटर पर अफ्रीकी देश डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो से एक भारतीय ने सुषमा स्वराज से मुश्किल में फंसे दूसरे भारतीय परिवार की मदद करने की अपील की है. डॉक्टर प्रीति यादव ने अपने ट्विटर हैंडल @DrPritiYadav1 से ट्वीट कर सुषमा स्वराज से कांगो में मुश्किल में फंसे एक परिवार की मदद के गुहार लगाई है.

मदद के लिए डॉक्टर प्रीति का ट्वीट

डॉक्टर प्रीति ने ट्वीट किया, ‘हमारा एक भारतीय सुनील शर्मा जो डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो के किन्शासा शहर में स्थिति Du Cinquantanaire अस्पताल में लैब टेक्नीशियन के तौर पर काम करता था. उनकी दो दिन पहले ही मौत हो गई थी. उनके परिवार के पास सुनील शर्मा के शव को भारत लाने के लिए पैसे नहीं हैं. क्या हम आपकी तरफ से मदद की उम्मीद कर सकते हैं? धन्यवाद…’

सुषमा ने बढ़ाए मदद के हाथ

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने डॉक्टर प्रीति यादव के ट्वीट पर रिप्लाई कर पीड़ित परिवार की हर संभव मदद का आश्वासन दिया. साथ ही उन्होंने पीड़ित परिवार की मदद के लिए डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो स्थिति भारतीय दूतावास को भी कहा है. सुषमा स्वराज ने जवाबी ट्वीट में लिखा, ‘कृपया परिवार से चिंता न करने के लिए कहें. हम अपने खर्च पर कांगो से शव को लाएंगे. नीना – कृपया इस मामले को देखें. @IndiainDRC’…

 

बता दें कि शनिवार को ही जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से एक कश्मीरी छात्रा के शव को बांग्लादेश से वापस लाने में मदद की अपील की. अनंतनाग जिले की रहने वाली कुरातुल ऐन की शनिवार को बांग्लादेश में मौत हो गई थी. वह वहां ताहिर-उल-निसा मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रही थी.

महबूबा ने ट्वीट किया, ‘प्रिय सुषमा स्वराज जी, कुरातुल ऐन, एक कश्मीरी छात्रा की बांग्लादेश में मौत हो गई है. वह ताहिर-उल-निसा मेडिकल कॉलेज में अपनी पढ़ाई कर रही थी. आपसे अनुरोध है कि मृतका के शव को उसके परिवार तक पहुंचाने में मदद करें.’

उमर अब्दुल्ला ने भी ट्वीट किया, ‘प्रिय सुषमा स्वराज साहिबा, मैंने इस बाबत अनंतनाग में एक पत्रकार के मार्फत आग्रह प्राप्त किया है. बांग्लादेश में ताहिर-उल-निसा मेडिकल कॉलेज में कुरातुल ऐन के सहपाठियों ने उसे खो दिया है. परिवार युवती के शव को वापस लाने में मदद चाहता है.’

इसके बाद सुषमा स्वराज ने इस मामले में ढाका में भारतीय उच्चायुक्त को मामले में पीड़ित परिवार की मदद के लिए कहा था.

loading...
शेयर करें