गाड़ी के कागज नही थे तो पुलिसवालों ने सडक पर बाइक सवार को बेरहमी से पीटा और फिर… 

उत्तर प्रदेश: लखनऊ के सिद्धार्थनगर में एक ऐसा वीडियो सामने आया है जो हर किसी को हैरान कर दिया,बता दे की  उसने यूपी पुलिस की छवि पर बड़ा दाग लगा दिया है. वीडियो में दो पुलिसवाले एक युवक को बेरहमी से पीटते दिखाई दे रहे हैं. युवक का मासूम भतीजा पुलिसवालों से हाथ जोड़कर चाचा को छोड़ देने की गुहार लगाता रहा लेकिन पुलिसवालों का दिल नहीं पसीजा.वीडियो में दिख रहा है कि पुलिसवाले कभी युवक को सड़क पर खींचते तो कभी उसका पैर तोड़ने का प्रयास करते, कभी उसके मुंह पर जूता रख देते तो कभी उसे बूट की ठोकरों से पीटते.एक पुलिसवाला तो उस पर बैठ गया और बुरा तरह उसे पीटा.ये युवक कोई अपराधी नहीं था, ना ही वो कोई गलत काम कर रहा था. उसका कसूर केवल इतना था कि चेकिंग के दौरान उसके पास बाइक के कागज नहीं थे और ना ही उसने हेलमेट पहना था. पुलिसवाले उससे चाबी छीनने लगे जिसका उसने विरोध किया था.बस यही विरोध पुलिसवालों को नागवार गुजरा और फिर उन्होंने युवक को जमकर पीटा. वीडियो सामने आने के बाद सिद्धार्थनगर पुलिस ने आरोपी पुलिसवालों को सस्पेंड कर दिया है और विभागीय कार्रवाई शुरु कर दी है.यूपी पुलिस के कारनामों का ये कोई पहला वीडियो नहीं है. बमुश्किल साल भर ही हुआ है

जब लखनऊ के एक पुलिसवाले ने रिक्शेवाले के मुंह पर जूता रख दिया था. ये वीडियो भी काफी वायरल हुआ था.लखनऊ का विवेक तिवारी मर्डर केस तो याद होगा आपको जिसमें एक पुलिसवाले ने एप्पल कंपनी के मैनेजर का ‘एनकाउंटर’ कर दिया था.इन दिनों यूपी पुलिस पत्रकारों से भी खासी खफा है और अभी तक 6 से अधिक पत्रकारों के खिलाफ मुकदमे लिखे जा चुके हैं. मिर्जापुर से लेकर नोएडा तक में पुलिस ने पत्रकारों के खिलाफ मुकदमे दर्ज किए हैं.जबकि पुलिस का खौफ इतना है कि अपराधी खुद ही थाने जाके अपने आप को कैमरे के सामने सरेंडर कर रहे हैं और पुलिसवाले इतने बड़े निशानची हैं कि रात के अंधेरे में भी अधिकतर एनकाउंटरों में अपराधियों को घुटने से नीचे पैर में गोली मार कर गिरफ्तार कर लेते हैं|

Related Articles