गर आप भी उड़ाते हैं DRONE तो ये खबर आपके लिए है, नए दिशा निर्देश पढ़ें…

Drone उड़ाना अब तक आपके कुछ पसंदीदा शौक में से एक होगा लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। दरअसल Government of India ने इसके लिए Instructions जारी कर दिए हैं। यदि अब आपने इन नियमाें का उलंघन करके ड्राेन उड़ाया ताे कार्यवाही के लिए भी तैयार रहें।

नई दिल्ली : Drone उड़ाना अब तक आपके कुछ पसंदीदा शौक में से एक होगा लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। ऐसा इसलिए क्याेंकि अब drone को उड़ाना इतना आसान नहीं होगा। दरअसल Government of India ने इसके लिए Instructions जारी कर दिए हैं। यदि अब आपने इन नियमाें का उलंघन करके ड्राेन उड़ाया ताे कार्यवाही के लिए भी तैयार रहें। ड्राेन काे लेकर भारत सरकार के नए नियम शुक्रवार से लागू कर दिए गए हैं।

भारत सरकार के नए नियम

Government of India के नए नियमों के तहत अब ऐसे drone जिनका वजन 250 ग्राम से अधिक है उन्हें सिर्फ रिमाेट पायलेट के द्वारा ही उड़ाया जा सकता है। और ऐसा भी आप तब ही कर सकते हैं जब आपके पास डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एवीएशन (DGCA) की इजाज़त होगी।

नए नियमाें काे अंतिम रूप दस महीनाें में लिए गए सुझावाें के बाद ही दिया जाएगा। मानव रहित विमान प्रणाली नियम 2021 के तहत ड्राेन के इस्तेमाल काे लेकर व्यक्तिगत, व्यवसाय के साथ रिसर्च, टेस्टिंग, प्राेडक्शन और इसके इम्पाेर्ट काे लेकर निर्देश जारी कर दिए गए हैं। नए नियमाें की माने तो ऐसे किसी भी ड्राेन जाे नैनाे कैटेगिरी में हाे यदि उसका वजन 250 ग्राम से ज़्यादा है या कम भी है, तब भी इसके इस्तेमाल के लिए परमिशन लेनी होगी। हालांकि Naino Drone की अधिकतम गति 15 मीटर प्रति सेंकड उड़ान के समय या फिर इससे ज्यादा गति जिसमें 100 मीटर प्रति सेंकड हाे उसे रिमाेट पायलेट से उड़ाना हाेगा। ऐसे ड्रोन काे अगली कैटेगिरी में रखा गया है।

यह भी पढ़ें :

Micro Drones काे टेक ऑफ करने से पहले किसी को भी परमिशन लेनी होगी। बता दें कि Micro Drones काे सामान्य रूप से 250 ग्राम से अधिक वजन वाले या दाे किलाेग्राम से कम वाली केटेगरी में रखा गया है। इसके साथ ही ड्राेन का अनाधिकृत आयात, खरीदना, बेचना, लीज पर देना मानव रहित विमान प्रणाली नियम 2021 के तहत दंडनीय मन जाएगा। साथ ही आपको इसके लिए हर्जाना भी चुकाना होगा। इसके साथ ही जाे व्यक्ति ड्राेन उड़ा रहा है यदि उसके पास रिमाेट पायलेट का लाइसेंस नहीं है तो इसे भी अपराध की श्रेणी में दर्ज किया जाएगा।

सामान की डिलेवरी के लिए नहीं होगा ड्राेन का इस्तेमाल

नए नियमाें के तहत drone का इस्तेमाल सामान की डिलेवरी के लिए नहीं किया जा सकता है। इसका इस्तेमाल सर्वे, फाेटाेग्राफी, सुरक्षा और विभिन्न जानकारी एकत्र करने के लिए ही किया जा सकेगा।

कब जारी हुए नए नियम

Drone काे लेकर यह नए नियम उस वक्त जारी हुए है जब काेराेना महामारी में तकनीक के इस्तेमाल से ह्यूमन इंटरफेयरेंस कम करने की दिशा में काम करने काे प्रेरित किया। ड्रोन डेटा संग्रह के लिए कम लागत, सुरक्षित और कुइक एरिअल सर्वे प्रदान करते हैं।

Related Articles