अगर बना रहे है घूमने और पिकनिक का प्लान, तो ये जगह रहेगा आपके लिए सही

जंस्कार घाटी कारगिल जिले में लद्दाख से लगभग 105 किलोमीटर दूर स्थित है. ये भारत की खूबसूरत स्थान में से एक है. जंस्कार घाटी में जन्नत का महसूस होता है. बर्फ से ढके पहाड़ों और स्वच्छ नदियों से सजी जंस्कार घाटी की सुंदरता देखने लायक है. इस घाटी को ‘जहर या जंगस्कर’ जैसे स्थानीय नामों से जाना जाता है.  समुद्र तल से लगभग 13,154 की ऊंचाई पर बसी जंस्कार घाटी ‘द टेथिस’ हिमालय का एक भाग है. यह घाटी लगभग 5000 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है.

इतिहासकारों के मुताबिक ‘ग्रेट लामा सोंगत्सेन गम्पो’ ने 7वीं शताब्दी में लद्दाख में बौद्ध धर्म की स्थापना की थी, जिसका प्रभाव जंस्कार घाटी पर भी पड़ा. उस समय यह जगह बौद्ध धर्म का भक्ति स्थल बन गया था और जंस्कार से सटा कश्मीर का हिस्सा इस्लाम धर्म के अनुयायियों का स्थल बन गया था.

चादर ट्रक को लेह- लद्दाख का सबसे मनमोहक और मुश्किलों वाला ट्रैक कहा जाता है. यह ट्रक जंस्कार घाटी का सबसे प्रमुख आकर्षण भी है. जानकारी लें लिए हम बता दें कि सर्दियों के दिनों में जंस्कार नदी बर्फ की सफेद चादर सी नज़र आने लगी है, जिस वजह से इसे चादर ट्रक भी बोलते है.

Related Articles