अगर आपको आते हैं बुरे सपने तो अभी हो जाएं सावधान

0

नई दिल्ली। हमारे दिमाग में कई तरह की चीज़े चलती रहती और ज्यादा तर हम अपनी जिंदगी की सारी दिक्कतों के बारे में रात में सोचते है क्योंकि दिन भर तो हम इतने व्यस्थ रहते हैं की खुद के बारे में सोचने का समय नही होता और रात में यही सब सोचते-सोचते हम सो जाते हैं। ऐसा कहा जाता हैं की जिस भी बारे में सोच कर सोते है, उसी से सम्बंधित सपने हमें आते फिर चाहे वो अच्छे सपने हो या बुरे कभी कभी हम सपनो में कई ऐसी चीज़े देखते हैं जिससे हमारा कोई संबंध नही होता हैं।नींद लेना हमारे लिए बेहद जरुरी होता हैं अगर हमारी नींद पूरी नही होती है तो हमारा दिन अच्छा नही जाता, हम दिन भर चिढ़े रहते है और हमारा किसी काम में मन नही लगता, चाहे सपने अच्छे हो या बुरे दोनों ही हमारे दिमाग पर नकारात्मक प्रभाव डालता हैं।

साइंटिफिक रिपोर्ट जर्नल में छपी स्टडी के प्रमुख लेखक सिक्का ने बताया कि सपनों और मानसिक स्वास्थ को बताने वाली ये पहली स्टडी है। उन्होंने आगे कहा कि मन भीतरी शांती के कारण ही शांत रह सकता है। पूर्वी सभ्यता के अनुसार दिल खुश रहने पर मानसिक संतुलन अच्छा बना रहता है।

टुर्कू यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर एंटी रिवोनसू ने कहा कि अध्यनों में सीधे तौर पर आध्यात्म के जरिए मानसिक स्वास्थ की बात की गई है। रिसर्चर्स ने स्वस्थ और बीमार मन से जागने वाले लोगों को एक सवालों की सूची दी जिससे ये नतीजे निकल कर आए। नतीजों नें पाया गया कि जिस व्यक्ति का मन अधिक शांत और स्वस्थ था उसे सकारात्मक सपने आए जबकि जिनकी मानसिक स्थिति शांत नहीं थी उन्हें नकारात्मक सपने आए।

loading...
शेयर करें