पूजा करते समय इन बातों का नहीं रखा ख्याल, तो हो जाएगा सर्वनाश

सभी लोग रोजाना सुबह-शाम नहा-धोकर भगवान का ध्यान करते हैं। लेकिन कभी-कभी ऐसा होता है हम पूजा-पाठ कर लेते हैं फिर भी घर में और मन को शांति नहीं मिलती है। लेकिन कई बार हम नहीं समझ पाते ऐसा क्यों हो रहा है।

 नहा-धोकर

जबकि हम सुभ-शाम दोनों टाइम पूजा करते हैं चलिए हम आपको बताते हैं की दोनों टाइम पूजा करने के बाद भी मन क्यों शांत नहीं रहता है। इसका कारण है कि आप पूजा करते समय नियमों का पालन नहीं करते होंगे। अगर आप पूजा करते समय नियमों का ध्यान रखें तो भगवान आपसे हमेशा खुश रहेंगे।  जिससे घर में सुख-शांति के साथ मन भी प्रसन्न रहेगा।  हम आपको कुछ नियमों के बारे में बताएंगे।

  • अगर आप सूर्य डूब जाने के बाद या रात होने पर पूजा कर रहे हैं तो शंख और घंटियां कभी ना बजाए।  क्योंकि सूर्यास्त के बाद देवी-देवता सोने चले जाते हैं।
  • आप अगर शाम होने के बाद करते हैं तो पूजा के लिए फूल तोड़ कर न लाएं, सूर्य डूब जाने के बाद फूलों को तोड़ना अच्छा नहीं माना जाता।
  • आपको बता दें सूर्य भगवान दिन के देवता हैं।  इसलिए दिन में अगर कोई विशेष पूजा कर रहे हैं तो साथ में सूर्यदेव की पूजा भी जरूर करनी चाहिए, परंतु सूर्य डूब जाने के बाद सूर्य देव की पूजा ना करें।
  • पूजा वाले घर में कभी भी भगवान की बहुत बड़ी मूर्ति नहीं रखनी चाहिए। ज्यादा से ज्यादा आप छह इंच की मूर्ति रख सकते हैं।
  • संध्या होने के बाद तुलसी का पत्ता गलती से भी न तोड़ें इससे लक्ष्मी नाराज हो जाएंगी।  इसलिए अगर शाम या रात में पूजा करनी है तो दिन के समय ही तुलसी पत्ता तोड़ कर रख लें।
  • जब भी पूजा करें ध्यान रखें देवी-देवाताओं को अनामिका यानि अंगूठे के बगल वाली उंगली से तिलक लगाते हैं।
  • पूजा करते समय अपने पास पान का पता जरूर रखें क्योंकि इससे देवता प्रसन्न होते हैं।
  • पूजा करने के बाद दीपक को भगवान के सामने ही रखना चाहिए।  कभी भी इधर-उधर नहीं रखना चाहिए।
  • पूजा करते समय दीपक को देसी घी से जलाए तो सफेद बती का इस्तेमाल करें।
  • अगर आप भगवान शिव की पूजा करते हैं, तो उन्हें कभी भी हल्दी न चढ़ाए।
  • घर के पूजा वाली जगह पर कभी भी सुखें फूल या माला न रखें।
  • गणेश जी को तुलसी, विष्णु जी को चावल, देवी को दूर्वा, सूर्य भगवान को कभी बेल पत्र नहीं चढ़ाना चाहिए।  इससे भगवान नाराज हो जाते हैं।

Related Articles