IPL
IPL

मन को शांत और शरीर को रखना हो स्वस्थ तो करें ये प्राणायाम

लखनऊ: प्राणायाम (Pranayama) करने से मन शांत और बॉडी हेल्थी रहती है। प्राणायाम अभ्यास (Pranayama) की रोजाना प्रैक्टिस करने से आदत में शामिल हो जाता है। योग करने से हर प्रकार के तनाव से भी मुक्ति मिलती है। श्वसन क्रिया का व्यायाम करना है तो पहले आप सुखासन में बैठ जाएं, इसके बाद हाथों को वायु मुद्रा में रख कर आंखें बंद कर ले, इसके बाद लंबी सांसे लें कर उसे छोड़ें। ये 5 बार करना होगा अंतिम में सांस भरते समय ॐ का नाद करें।

सूक्ष्म व्यायाम करने के लिए योग मैट पर लेट कर पैरों के बीच में गैप रखें। फिर दोनों पैरों को गोलाकार घुमाएं। सूक्ष्म व्यायाम करने के दौरान सांस लेने और छोड़ने की प्रक्रिया के दौरान सांसों पर ध्यान केंद्रित रखना जरुरी है। महिलाओं के लिए बटरफ्लाई यानि तितली आसन विशेष रूप से लाभकारी है। इसे करने के लिए पैरों को सामने फैला कर बैठ जाएं, रीढ़ की हड्डी सीधी रखें। घुटनो को मोड़ें और दोनों पैरों को श्रोणि में ले जाये। दोनों हाथों से अपने दोनों पैर को पकड़ ले। एड़ी को जननांगों के जितना करीब हो सके लाने का प्रयास करें। लंबी, गहरी सांस लेकर छोड़ते हुए घटनों एवं जांघो को जमीन की तरफ दबाव डालें। इसके बाद तितली के पंखों की तरह अपने दोनों पैरों को ऊपर नीचे हिलाये, फिर धीरे धीरे इस प्रक्रिया को तेज करें।

ये भी पढ़ें : मोटापा बढ़ रहा है और ये डाइट प्लान नहीं है आपके दिनचर्या का हिस्सा तो परिणाम हो सकता है भयावह

इस प्राणायाम से फायदे

अनुलोम विलोम प्राणायाम करने के लिए आप जमीन पर पालथी मार कर सुखासन में बैठें। फिर दाएं अंगूठे से अपनी दाहिनी नाक बंद करे और बाई नाक से सांस अंदर लें लीजिए। अब अनामिका उंगली से बाई नाक को बंद कर दें। इसके बाद दाहिनी नाक खोलें और सांस बाहर छोड़ दें। अब दाहिने नाक से सांस अंदर लें और उसी प्रक्रिया करते रहे। इस प्राणायाम को करने से फेफड़े मजबूत होते हैं। इसे करने से वजन भी कम होता है। तनाव या डिप्रेशन से मुक्ति मिलती है। गठिया के लिए भी फायदेमंद होता है।

ये भी पढ़ें : आचार्य स्वामी विवेकानन्द: घर से निकलने से पहले पढ़ें राशिफल, नहीं तो होंगे फिजूल खर्चे

Related Articles

Back to top button