IIT का ‘रामपद’ खाद्य तेलों को करेगा शुद्ध

0

कानपुर। आईआईटी कानपुर की एक प्रोफेसर ने एक ऐसा तेल शोधक यंत्र बनाया है जो कुकिंग तेल की मिलावट और खराबी को पूरी तरह से खत्म कर देता है। IIT का ‘रामपद’  यानि तेल शोधक यंत्र के माध्यम से खराब और बेकार तेल को दोबारा शुद्ध किया जा सकता है।

IIT का 'रामपद'

IIT का ‘रामपद’ को बाजार में उतारने की तैयारी

कई बार इस्तेमाल हो चुका पुराना तेल फिर से अपनी मूल अवस्था में आ जाता है। अब आईआईटी इस तेल शोधक यंत्र को बाजार में उतारने की तैयारी कर चुका है और जल्द ही निजी कंपनी को कॉन्ट्रेक्ट देकर अपने पेटेंट आविष्कार को लोगों के उपयोग के लिए लाएगा।

थर्मस के आकार का है रामपद

कानपुर आईआईटी की प्रोफेसर पद्मा एस वैंकर ने रामपद नाम का एक तेल शोधक यन्त्र बनाया है। एक थर्मस के आकर का यह यंत्र तेल शोधन का काम करता है। कानपुर आईआईटी में फीएट (फैकल्टी फॉर इकोलॉजिकल एंड एनालिटिकल टेस्टिंग) विभाग की प्रोफ़ेसर पद्मा ने यह यन्त्र अपने छात्र राम के साथ मिलकर बनाया है। प्रोफ़ेसर का दावा है कि इस यन्त्र में कितना भी खराब तेल हो इसमें डालकर शुद्ध किया जा सकता है।

अशुद्ध तेल को करता है पूरी तरह शुद्ध

उनका मानना है कि होटलों और ढाबों में दुकानदार तेल को दर्जनों बार इस्तेमाल करते है। ऐसे तेल में कई तरह के हानिकारक तत्‍व शामिल होते है। IIT का ‘रामपद’  ऐसे तेल को पूरी तरह से शुद्ध कर अपने मूल अवस्था में ले आता है। जिससे तेल में बार-बार गर्म करने से पैदा होने वाली अशुद्धि और ट्रांसफैट पूरी तरह से दूर हो जाती है।

दिल के मरीजों के लिए कारगर

प्रो. पद्मा ने बताया कि किडनी और दिल के मरीजों के लिए ये तेल पूरी तरह शुद्ध हो जाता है। डॉक्टर्स का कहना है कि तेल को बार बार गर्म करने पर तेल में दिल और किडनी की बीमारी को पैदा करने वाली अशुद्धियां मौजूद रहती है।

loading...
शेयर करें