केरल बाढ: 5 हजार चिकित्सक तैनात करेगा IMA, पीड़ितों का मुफ्त होगा इलाज

तिरुवनंतपुरम: बारिश, बाढ, तबाही केरल इन दिनों इन तीनों शब्दों से जूझ रहा है। दरअसल, राज्य में पिछले 100 साल के इतिहास में सबसे विनाशकारी बाढ़ आई है। जिसके चलते यहां का जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। जहां एक ओर तबाही के चलते फसल और संपत्तियों समेत कुल 8 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का नुकसान हुआ है, वहीं अब मरने वालों का आंकड़ा 167 तक पहुंच गया है। बाढ़ के मद्देनजर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने राज्य में 5 हजार डॉक्टर तैनात करने का ऐलान किया है।

दरअसल, बीते कई दिनों से केरल लगातार भारी बारिश की मार झेल रहा है। राज्य के सभी जिलों में रेड अलर्ट जारी कर दिया गया है। पूरे राज्य में भारी तबाही मची है और हजारों लोग बेघर हो चुके हैं। बाढ़ के चलते 1.65 लाख लोग राहत कैंपों में रहने को मजबूर हैं। राहत और बचाव कार्य के लिए सेना, एयरफोर्स, तटरक्षक दल और एनडीआरएफ की टीम जुटी हुई है।

भारी बारिश और बाढ़ के कारण कोच्चि एयरपोर्ट पर पानी भर गया है और वहां परिचालन बंद कर दिया गया है, जबकि कोच्चि मेट्रो सेवा भी अगले आदेश तक रोक दी गई है। केरल में बाढ़ और भारी बारिश ने अब तक 94 लोगों की जान ले ली है।

सुप्रीम कोर्ट ने आपदा प्रबंधन और पुनर्वास के संबंध में उठाए गए कदमों पर केरल सरकार से रिपोर्ट मांगी है। कोर्ट ने केरल में बाढ़ के मामले पर निर्देश देते हुए मुल्लापेरियार बांध के जलस्तर को काबू में रखने को कहा है। कोर्ट ने कहा है कि बांध में पानी 139 फीट से अधिक न हो, इसके लिए किए जाएं जरूरी उपाय किये जाएं।

इससे पहले तट रक्षक दल के 4 जहाज कोच्चि पहुंचे, बाढ़ प्रभावित गांवों में 24 टीमें पहले ही काम कर रही हैं। भारतीय तटरक्षक दल ने अब तक 1764 लोगों को बचाया है और 4688 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है।
इडुक्की में एनडीआरएफ राहत कार्य में जुटी हुई है। प्रभावित इलाकों में लोगों को खाने के पैकेट दिए गए, राहत कैंपों में लाखों लोगों को रखा गया।

Related Articles