IMC 2019: हुवावे ने भारत में दिखाई 5जी की ताकत

0

भारत में सोमवार को इंडिया मोबाइल कांग्रेस-2019 का आगाज हुआ। इस कार्यक्रम में दुनिया भर की सैकड़ों कंपनियों ने भाग लिया। इन्हीं कंपनियों में से एक है हुवावे, जिसने 5जी के और आयामों पर विस्तार से उदाहरण पेश किया और भारत के लिए कैसे फायदेमंद साबित होंगी, उसकी भी जानकारी दी।

तीन दिवसीय इस कार्यक्रम का उद्घाटन केंद्रीय ग्रह मंत्री अमित शाह के द्वारा किया गया। इसमें दुनिया भर की सैकड़ों कंपनियां व स्टार्टअप ने हिस्सा लिया है। चीनी टेक्नोलॉजी कंपनी ने अपने पार्टनर के साथ मिलकर 5जी तकनीक से लैस एप्लीकेशन का शक्ति प्रदर्शन किया। यह एप्लीकेशन सिर्फ टेलीकम्यूनिकेशन सेक्टर से संबंधित नहीं है बल्कि हर एक क्षेत्र से जुड़े हुए हैं। इनके नाम 5जी प्लस सेफ सिटी, 5जी प्लस स्मार्ट सिटी, 5जी प्लस वर्चुअल रिएलिटी (वीआर), 5जी प्लस एयरपोर्ट (बॉर्डिंग गेट) और 5जी प्लस एजुकेशन (स्मार्ट क्लास रूम) है।

300 से ज्यादा कंपनियों ने हिस्सा लिया है
आईएमसी 2019 में 30 देशों की 300 से ज्यादा टेक कंपनियों ने हिस्सा लिया है। वहीं, उम्मीद लगाई जा रही है कि इस इवेंट में 1 लाख से ज्यादा लोग पहुंचेंगे। जीईएम पोर्टल देश में स्वदेशी समान के लिए देश-विदेश में आउटलेट के तौर पर काम करेगा। पीयूष गोयल ने कहा है कि 6,500 रेलवे स्टेशन पर पारदर्शी तरीके के साथ को-ऑपरेटिव स्टॉल को ओपन किया जाएगा। उन्होंने आगे कहा है कि इन आउटलेट्स को हवाई अड्डों और बस स्टेशन पर भी लगाया जा सकता है।

इंडिया मोबाइल कांग्रेस क्या है और क्यो जरूरत 
दुनिया भर में तकनीक संबंधि कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है, जिसमें, मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस (बार्सिलोना), कंज्यूमर इलेक्ट्रोनिक शो (लास वेगस) और आईएफए (बर्लिन) है। इसी तर्ज पर भारत में भी इंडिया मोबाइल कांग्रेस की शुरुआत की थी। इसकी शुरुआत साल 2017 से हुई और इस साल यह तीसरी बार हो रहा है। साल 2017 में इसका आयोजन प्रगति मैदान में किया गया था और बीते साल यह इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के पास मौजूद एयरोसिटी में आयोजित हो रहा है। दरअसल, इन प्रकार के कार्यक्रम में दुनिया भर से आने वाली शिरकत लेती हैं और अपनी लेटेस्ट तकनीक या फिर भविष्य में लॉन्च होने वाली तकनीक की कल्पना को पेश करती हैं।

क्या है हुवावे की मुख्य एप्लीकेशन 
5जी प्लस स्मार्ट सिटी 2.0: यह हुवावे का स्मार्ट सिटी का नया वर्जन है। इसको  इंटेलीजेंट ऑपरेशन सेंसर (आईओएस) से ताकत मिलेगी, जिसमें आधुनिक सेंसर, प्रोसेसर और निर्णय लेने की लाजवाब शक्ति लोगों को बेहतर जिंदगी उपलब्ध कराएगी। साथ ही कंपनी ने इसमें नई इंफोर्मेशन एंड कम्यूनिकेशन टेक्नोलॉजी का भी सहारा लिया जाएगा जो स्मार्ट सिटी को बनाने में मदद करेगा। हुवावे 200 से अधिक शहर और 40 से अधिक देश और प्रांतों में इस प्रोजेक्ट को शुरू करने का प्रयास कर रहा है।

5जी प्लस एआई सेफ सिटी
हुवावे के इंटेलीजेंस सिटी सर्विलांस सॉल्यूशन आर्टिफीशियल इंटेलीजेंस तकनीक से लैस कैमरा और कुछ खास इलाकों में ऑटो डिटेक्शन कैमरे काम करेंगे। ऑटो डिटेक्शन हरकत होने पर उस पर खुद ब खुद फोकस करने लगते है। इतना ही यह गुम हुई वस्तुओं को भी खूोजने की क्षमता रखते हैं।

5जी प्लस स्मार्ट सिटी स्मार्ट पोल
स्मार्ट सिटी की सबसे बड़ी खूबी यह है कि इसमें स्मार्ट पोल भी होंगे बेहद ही आधुनिक लैंस के संग आएंगे। यह लैंस कई काम करने की क्षमता रखेंगे, जो स्मार्ट लाइटिंग, वायरलैस नेटवर्क, वीडियो सर्विलांस और इमरजेंसी कॉल जैसी सुविधाएं दी जाएंगी।

5जी प्लस स्मार्ट ट्रांसपोर्टेशन (5जी एयरपोर्ट)
हुवावे स्मार्ट एयरपोर्ट की तहत एक बोर्डिंग गेट की नकल तैयार की गई। इसमें कंपनी ने 5जी आने के बाद मिलने वाली तकनीक की झलक पेश की है। यह यात्री को जहाज और यात्रा संबंधित जानकारी उपलब्ध कराएगी। यहां तक कि यह सुरक्षा संबंधी भी सुरक्षा मुहैया कराएगी।

loading...
शेयर करें