आईएमएफ ने फिर घटाया देश का growth rate प्रिडिक्शन

नई दिल्ली : लाइवमिंट की खबर के मुताबिक,  इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड ने देश के लिए लगाए जाने वाले इकोनॉमिक growth rate के  अनुमान को 0.25 प्रतिशत घटाकर 6 प्रतिशत कर दिया है। आपकी जानकारी के लिए बता दें की यह ग्रोथ की वह दर होती है जो अधिक इन्फ्लेशन के बिना मीडियम टर्म में हासिल की जा सकती है।

growth rate देती है जीडीपी की सेहत का अनुमान

इस कड़ी में आईएमएफ के इंडिया हेड एल्फ्रेड शिप्क ने कहा, “हमारा मानना है कि हाल में इनवेस्टमेंट पर बड़ा असर पड़ा है। इसके अलावा लेबर मार्केट को भी काफी नुकसान हुआ है। इस वजह से हमने भारत की संभावित ग्रोथ का अनुमान 0.25 प्रतिशत घटाकर 6 कर रहे है।”

हालांकि, इसके साथ ही आईएमएफ ने कहा कि अगर सरकार बड़े अर्थव्यवस्था में रिफॉर्म्स करती है और प्राइवेटाइजेशन को आगे बढ़ती है तो इस अनुमान को बढ़ाया जा सकता है। शिप्क ने कहा कि इस कड़ी में अगर हम दूसरे देशों पर नज़र डालें तो पता चलता है कि इस तरह के बड़े रिफॉर्म्स को लागू करने में समय लगता है।

आईएमएफ के एशिया पैसेफिक के डिप्टी डिविजन चीफ, जारको टुरुमेन ने कहा कि महामारी के कारण इस वक़्त लेबर मार्केट की स्थिति भी बेहद खराब है। इसके अलावा एजुकेशन और ट्रेनिंग सेक्टर में भी भारी कमी आई है। इसका इकॉनमी पर नकारात्मक असर होगा और उत्पादन में कमी आएगी।

यह भी पढ़ें : तीसरी पीढ़ी के एयरपॉड्स का लॉन्च, 1900 रुपये की कीमत में मिलेगा ‘पॉलिशिंग क्लॉथ’

Related Articles