डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ तेज हुई महाभियोग प्रक्रिया, समयपूर्व पद छोड़ने का बढ़ा दबाव

 

वाशिंगटन : अमेरिका (America) में राष्ट्रपति चुनाव (presidential election) हारने के बाद रिपब्लिकन (Republican) राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) पर महाभियोग (Impeachment) प्रस्ताव पेश किया गया। डेमोक्रेट्स (Democrats) ने लगातार दूसरी बार राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) पर महाभियोग चलाने की प्रस्ताव पेश किया। डेमोक्रेट्स ने मांग की है कि उपराष्ट्रपति माइक पेंस (Mike pence) संविधान के 25वे संसोधन को लागू करके डोनाल्ड ट्रम्प को व्हइट हाउस से बाहर करें।

डेमोक्रेट्स सदस्यों ने निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के खिलाफ महाभियोग (Impeachment) की कार्रवाई रविवार को ही शुरू कर दी थी, लेकिन उस समय रिपब्लिकन सदस्यों ने सदन में इस प्रस्ताव को रोक दिया था। प्रतिनधि सभा की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी (Nancy Pelosi) ने डेमोक्रेटिक सदस्यों को पत्र लिखकर उपराष्ट्रपति से 25वें संविधान संसोधन को लागू करने की मांग की। नैन्सी पेलोसी ने कहा कि लोकतंत्र (Democracy) और संविधान (Constitution) की रक्षा के लिए तत्काल कदम उठाये जाने चाहिए।

वहीँ कैलिफोर्निया (California) के पूर्व गवर्नर अर्नोल्ड श्वार्जेनेगर ने व्हाइट हाउस (White House) पर ट्रम्प समर्थकों के हमले की तुलना नाजियों से कर दी। उन्होंने कहा की ट्रंप एक नाकाम नेता और इतिहास के सबसे बुरे राष्ट्रपति रहे। बता दें कि वर्ष 1983 में नाजियों ने जर्मनी और ऑस्ट्रिया में हमले करके यहूदियों के घरों, शिक्षण संस्थानों और व्यावसायिक बिल्डिंगो में तोड़ फोड़ की थी। जिसे ‘नाइट ऑफ ब्रोकन ग्लास’ (Knight of broken glass) या ‘क्रिस्टलनाट’ कहते है।

जाने क्या है 25वां संविधान संसोधन

यह संवैधानिक संसोधन उपराष्ट्रपति और मंत्रिमंडल के बहुमत के सस्दयों को राष्ट्रपति को पद से हटाने का अधिकार देता है। महाभियोग की कार्रवाई तेजी के साथ होने से ट्रंप पर समय से पहले पद से हटने का दबाव बढ़ रहा है।

इसे भी पढ़े: इमरान खान के बेतुके बयान, ISIS से मिलकर पाकिस्तान को अस्थिर कर रहा भारत

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को पद से हटाने के लिए अमेरिकी राजनयिकों ने दो दस्तावेज तैयार कर लिए है। दस्तावेज में लिखा गया है कि अगर ट्रंप अब भी राष्ट्रपति बने रहते है तो लोकतांत्रिक मूल्यों को बहुत आघात होगा, अमेरिका की विदेश नीति बुरु तरह प्रभावित होगी।

Related Articles

Back to top button