किसानों और सरकार के बीच अहम बैठक, जानिए इससे जुड़ी बड़ी बातें

किसानों ने केन्द्र सरकार को धमकी देते हुए कहा है कि अगर 4 जनवरी को होने वाले बैठक में काले कृषि कानूनों को वापस करना और न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) को कानूनी स्वरूप देना

नई दिल्ली: केंद्र के कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ किसानों काे आंदोलन (Farmers Protest) के आज 40 दिन हो गए और कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन आज भी जज़्बे के साथ जारी है।

किसानों और सरकार के बीच आज अहम बैठक होनी है। अब देखने वाली बात यह है कि इस बैठक में भी किसान संगठन (Farmer organization) और केंद्र सरकार किसी ठोस समाधान पर पहुंचती है या फिर किसानों के हिस्से में निराशा ही मिलेगी।

दो बड़े कानून वापसी की मांग

इस बैठक में नए कृषि कानूनों को वापस लेने और न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) को कानूनी स्वरूप देने पर चर्चा होगी ।
कड़ाके की ठंड और बारिश को झेलते हुए किसान लगभग 40 दिनों से दिल्ली के करीब सभी सीमाओं पर डटे हुए है।

किसानों ने केन्द्र सरकार को धमकी देते हुए कहा है कि अगर 4 जनवरी को होने वाले बैठक में काले कृषि कानूनों को वापस करना और न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) को कानूनी स्वरूप देना। अगर केन्द्र सरकार (Central government) इन दो मांगों को नहीं मानती है तो वह अपनी आन्दोलन को और तेज करेंगे।

इसके पहले पिछले बुधवार को बैठक हुई थी जिसमें पराली और बिजली संशोधन बिल पर केन्द्र सरकार और किसानों के बीच सहमति बनी थी।

यह भी पढ़े: कोविशील्ड (Covishield) की स्पालई को जल्द ही मिल सकती है मंजूरी

Related Articles