धोनी के ग्लव्स पर इमरान खान के मंत्री का ट्वीट, क्रिकेट खेलने गए हैं, महाभारत के लिए नहीं

वर्ल्ड कप 2019 में भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच मैच के दौरान दस्ताने पर लगे अर्धसैनिक बलों के चिह्न पर अब पाकिस्तान सरकार के एक मंत्री ने भी ट्वीट किया है. इससे पहले अर्धसैनिक बलों का चिह्न भले ही प्रशंसकों में लोकप्रिय हो रहा हो, लेकिन ICC ने इसे नियमों के खिलाफ बताते हुए गुरुवार को BCCI से इस बैज को हटाने का अनुरोध किया है.


पाकिस्तान सरकार में विज्ञान मंत्री चौधरी फवाद हुसैन ने इस पूरे घटनाक्रम पर ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा, ”धोनी इंग्लैंड में क्रिकेट खेलने के लिए गए हैं न कि महाभारत के लिए. भारतीय मीडिया में यह क्या बहस चल रही है… मीडिया का एक वर्ग युद्ध से इतना प्रभावित है कि उन्हें सीरिया, अफगानिस्तान या रवांडा भेजा जाना चाहिए.”


सोशल मीडिया कर रहा है धोनी की तारीफ
दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ विश्व कप के पहले मैच में धोनी के विकेटकीपिंग दस्तानों पर सभी की नजरें गईं जब कैमरे ने इस पर फोकस किया जिस पर अर्धसैनिक बलों का चिह्न बना हुआ था. धोनी ने पहले भी ये दस्ताने शायद पहने होंगे, लेकिन अब विश्व कप में टीवी की नजर में आने के बाद सोशल मीडिया पर उनकी तारीफों के पुल बांधे जा रहे हैं .

बता दें कि धोनी टेरिटोरियल आर्मी में हैं और वह भारतीय सेना की पैरा स्‍पेशल फोर्स में मानद लेफ्टिनेंट कर्नल हैं. उनके किट बैग का रंग भी सेना की जर्सी जैसे रंग का ही है.

धोनी के दस्तानों पर ‘बलिदान ब्रिगेड’ का चिह्न है. सिर्फ पैरामिलिट्री कमांडो को ही यह चिह्न धारण करने का अधिकार है. धोनी को 2011 में पैराशूट रेजीमेंट में लेफ्टिनेंट कर्नल की मानद उपाधि मिली थी. धोनी ने 2015 में पैरा ब्रिगेड की ट्रेनिंग भी ली है. प्रशिक्षण के दौरान धोनी ने पांच पैराशूट जंप भी किए थे.

Related Articles