2018 में 10 मिलियन लोग TB से पड़ गए थे बीमार, CM योगी ने किया जागरूकता का प्रसार

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने विश्व तपेदिक दिवस के मौके पर बोले कि आइए, क्षय रोग के संबंध में जन-जन तक जागरूकता का प्रसार करें

लखनऊ: 24 मार्च के दिन विश्व तपेदिक दिवस (World Tuberculosis Day) मनाया जाता है। इस बीमरी को टीबी, क्षयरोग, यक्ष्मा के नाम से भी जाना जाता है। टीबी (TB) मुख्य रूप से फेफड़ो पर हमला करता है। साल 1882 में पहली बार टीबी के विषाणु की पहचान हुई थी। लेकिन इतने सालों के बाद भी अब तक हम दुनिया को इस रोग से मुक्त नहीं करा पाए हैं। WHO ने लक्ष्य रखा है कि वर्ष 2030 तक इस दुनिया को टीबी से मुक्त कराया जाएगा।

क्षय रोग मुक्त भारत

इस मौके पर उत्तर प्रदेश के सीतापुर में विश्व क्षय रोग दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) बोले कि आज विश्व क्षय रोग दिवस है। क्षय रोग, हमारे देश की प्रमुख स्वास्थ्य चुनौतियों में से एक है और इसका इलाज संभव है। आइए, क्षय रोग के संबंध में जन-जन तक जागरूकता का प्रसार करें और आदरणीय प्रधानमंत्री जी की वर्ष 2025 तक “क्षय रोग मुक्त भारत” की संकल्पना को साकार करने में सहभागी बनें।

उन्होने यह भी बोला कि देश के प्रधानमंत्री ने भी भारतवासियों के सामने भी एक लक्ष्य रखा है कि भारत को टीबी से वर्ष 2025 तक मुक्त करा सके। इसके लिए एक अभियान प्रारंभ हुआ है। इस अभियान के तहत प्रदेश में वर्ष 2020 की तुलना में वर्ष 2021 में टीबी मरीजों की संख्या कम हुई है।

1.5 मिलियन लोग बीमारी से मरे

विश्व तपेदिक दिवस (World Tuberculosis Day), प्रत्येक साल 24 मार्च को मनाया जाता है, तपेदिक (टीबी) के वैश्विक महामारी और रोग को खत्म करने के प्रयासों के बारे में सार्वजनिक जागरूकता लाने के लिए इस दिवस को मनाया जाता है। 2018 में 10 मिलियन लोग टीबी से बीमार पड़ गए थे, और 1.5 मिलियन लोग बीमारी से मर गए थे, ज्यादातर कम और मध्यम आय वाले देशों में यह एक संक्रामक बीमारी से मृत्यु का प्रमुख कारण भी बनता है।

यह भी पढ़ेCorona Positive: Aamir Khan को हुआ कोरोना, होम क्वारंटीन में हैं बॉलीवुड के ‘Hit Machine’

Related Articles