रामनिवास रावत के सामने आपस में ही भिड़े कांग्रेस के दो बड़े पदाधिकारी, समर्थकों में चले लात-घूंसे

मुरैना: लोकसभा चुनाव जीतने के लिए एकजुटता का संदेश देने के लिए रविवार को मुरैना में हुई पहली बैठक में कांग्रेस प्रत्याशी रामनिवास रावत के सामने एक-दूसरे की बात काटने को लेकर पूर्व नपा उपाध्यक्ष प्रबलप्रताप उर्फ रिंकू मावई व पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष मनोजपाल यादव के बीच जोरदार झड़प हो गई। झगड़ा इतना बढ़ा कि बाहर दोनों के समर्थकों में हाथापाई हो गई। रिंकू मावई समर्थकों ने मनोजपाल के समर्थकों को लात-घूसों से पीटा।

दरअसल, रावत की जीत की रणनीति पर अपने विचार रखते हुए मावई ने कहा कि 2009 के लोकसभा चुनाव में रावत जब यहां के प्रत्याशी थे तब ज्यादातर कांग्रेसी मुरैना छोड़कर प्रचार के बहाने गुना-शिवपुरी व भिंड चले गए थे। इससे स्थानीय प्रत्याशी अकेला रह जाता है।

मावई की बात खत्म होने पर यादव ने कटाक्ष करते हुए कहा कि चुनाव में जिसकी जहां ड्यूटी लगाई जाती है, वह उसी क्षेत्र में काम करता है तो बुराई क्या है। वैसे भी आजकल क्षेत्र में रहना जरूरी नहीं, मोबाइल से भी अपने पसंदीदा प्रत्याशी के लिए प्रचार किया जा सकता है। इसी बात पर मावई व यादव में कहासुनी हो गई। बाद में वहां मौजूद वरिष्ठ कांग्रेसियों की समझाइश पर दोनों बैठ तो गए, लेकिन बाहर दोनों के समर्थकों में हाथापाई हो गई।

दिग्विजय व कमलनाथ के इक्का-दुक्का समर्थक ही मौजूद थे :
मुरैना सीट से सिंधिया समर्थक रामनिवास का टिकट फायनल होते ही कांग्रेस में गुटबाजी नजर आने लगी है। प्रत्याशी रावत की पहली ही बैठक में जिला कांग्रेस कमेटी में सिंधिया समर्थकों की भीड़ नजर आई, जबकि दिग्विजय व कमलनाथ के इक्का-दुक्का समर्थक ही मौजूद रहे। नाथ समर्थक किसान कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष दिनेश गुर्जर, युकां नेता दीपक शर्मा सहित कई नेता गायब थे।

कांग्रेस प्रत्याशी रावत बोले- यह विवाद नहीं, विचारों में असमानता है :
जिला कांग्रेस कमेटी की बैठक में लोकसभा चुनाव को लेकर चल रही चर्चा के बाद कांग्रेस पदाधिकारियों के बीच हुए विवाद पर कांग्रेस प्रत्याशी रामनिवास रावत ने भास्कर से कहा कि यह विवाद नहीं बल्कि विचारों में असमानता है।

Related Articles