गाड़ी में अकेले सफ़र करने के वावजूद अगर पुलिस कर रही चालान तो सरकार के इस हलफनामें पर दे ध्यान

नई दिल्ली: कई बार चर्चा होती है कि वाहन चलाने के दौरान मास्क पहनना अनिवार्य है या नहीं, क्योंकि कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने सभी को मास्क लगाने के लिए दिशा निर्देश जारी किया है. इस पर सरकार की ओर से दिल्ली हाई कोर्ट में एक हलफनामा दायर किया गया है.

इस हलफनामे में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने साफ़ किया है कि सरकार ने ऐसा कोई दिशा-निर्देश नहीं जारी किया है, जिसमें ये कहा गया हो की अकेले गाड़ी चलाने वाले इंसान को मास्क लगाना जरूरी है. मतलब सरकार ने अपने इस हलफनामें में साफ़ कर दिया है, कि अगर शख्स अकेला ड्राइव कर रहा है तो वो बिना मास्क लगाये भी चल सकता है,

दरअसल गाड़ी चलते समय मास्क न लगाने पर लोगों से 2000 रुपये चालान (Challan) के रूप में लिए जाते है. पहले चालान के तौर पर 500 रुपये ही भरने पड़ते थे. इस संबंध में दिल्ली हाई कोर्ट में एक वकील ने याचिका दायर की थी.

इसके बाद सरकार ने हाईकोर्ट में हलफनामा देते हुए यह स्पष्ट किया कि परिवार कल्याण मंत्रालय ने ऐसा कोई दिशा-निर्देश नहीं जारी किया है जिसमें यह कहा गया हो कि अकेले ड्राइव कर रहे व्यक्ति को मास्क लगाना अनिवार्य है.

वहीँ दिल्ली हाई कोर्ट में ऐसी कई याचिकाएं दायर की गई है जिसमें बंद गाडी में मास्क न लगाने को पर चालान (Challan) काटने को गैरकानूनी बताया गया है. इन याचिकाओं पर हाई कोर्ट 12 जनवरी को सुनवाई करेगी.

यह भी पढ़ें: बिहार में अटकलों का बाजार गर्म, नितीश के बयान से लगाए जा रहे बीजेपी और जेडीयू के बीच मतभेद के कयास

Related Articles