बिहार चुनाव के दूसरे चरण में एनडीए और महागठबंधन के बीच कांटे की टक्कर

बिहार के चार जिले मुजफ्फरपुर, दरभंगा, मधुबनी, सीतामढ़ी में 3 नवबंर को होगा मतदान

बिहार: राजनीति में साम-दाम-दंड-भेद सब अपनाया जाता है। बिहार के दूसरे चरण में मतदान के लिए एनडीए और महागठबंधन ने चुनावी मैदान में अपने-अपने खिलाड़ियों को चुनावी रण में उतारने के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। 3 नवंबर को बिहार के चार जिले में होंगे दूसरे चरण के मतदान।

दूसरे चरण का मतदान

बिहार में लीची के लिए मशहूर मुजफ्फरपुर, दरभंगा, मधुबनी, सीतामढ़ी में 3 नवबंर को दूसरे चरण का मतदान होना है। बिहार के साहेबगंज सीट पर वीआईपी उम्मीदवार राजू कुमार सिंह और राजद के मौजूदा विधायक रामविचार राय के बीच सीधी टक्कर है। पारु विधानसभा सीट पर भाजपा के मौजूदा विधायक अशोक कुमार सिंह, कांग्रेस से अनुनय सिन्हा सहित 19 प्रत्य़ाशी मैदान में हैं। बरूराज सीट पर राजद के मौजूदा विधायक नंद कुमार राय और भाजपा के अरुण कुमार सिंह समेत 16 प्रत्याशी अपनी भाग्य की रेखा बिहार के चुनावी मैदान में खींच रहें है।

कांटी सीट पर चुनावी तापमान

कोयले की भट्ठियों से बिजली बनाने वाली कांटी सीट पर चुनावी तापमान का पारा हाई है। 2015 में निर्दलीय दल से अशोक कुमार चौधरी ने यहां अपनी जीत दर्ज की थी। इस बार मैदान में जदयू से मो. जमाल, राजद से इशराइल मंसूरी और लोजपा से विजय कुमार सिंह सहित कुल 22 प्रत्याशी मैदान में हैं। मीनापुर सीट पर राजद के मौजूदा विधायक राजीव कुमार उर्फ मुन्ना यादव और जदयू से मनोज कुमार सहित कुल 20 प्रत्याशी बिहार के चुनावी भूमि में अपनी किस्मत को आज़मा रहे है।

मधुबनी के चुनावी खिलाड़ी

मधुबनी के 10 सीटों में से दूसरे चरण में चार सीटों पर मतदान है। मधुबनी से राजद के मौजूदा विधायक समीर महासेठ, वीआईपी से सुमन महासेठ सहित 12 प्रत्याशी हैं। फुलपरास सीट पर जदयू से शीला कुमारी, कांग्रेस से कृपानाथ पाठक सहित कुल 15 प्रत्याशी मैदान में उतरने वाले हैं।

सीतामढ़ी के प्रत्यक्षी

सीतामढ़ी के 8 सीटों में दूसरे चरण में तीन सीटों पर चुनाव हैं। बेलसंड से जदयू की मौजूदा विधायक सुनीता चौहान और राजद के संजय गुप्ता सहित कुल 17 प्रत्याक्षी चुनाव में भाग ले रहे है।

यह भी पढ़े:फ्रांस में हुए आतंकी हमले पर UAE और ईरान ने जतायी नाराजगी, इस्राइल ने की आतंकवाद के खिलाफ एकजुट होने की अपील

यह भी पढ़े:बिहार विधानसभा चुनाव: नीतीश कुमार ने खेला आबादी के आधार पर आरक्षण देने का दांव

Related Articles