यूपी में फिर मानवता शर्मसार,बदले की भावना से छह साल की मासूम से रेप

लखनऊ। राजधानी लखनऊ में एक छह साल की मासूम बच्ची के साथ चार नाबालिगों द्वारा सामूहिक दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है। मासूम बच्ची की नानी की छोटी सी फटकार से गुस्साए चार नाबालिगों ने इतना बड़ा गुनाह कर दिया. शनिवार रात को बच्ची अपनी मां व नानी के साथ सो रही थी. चारों आरोपियों ने रात के अँधेरे में चुपके से सोती हुई बच्ची को उठाया और कुछ दूर ले जाकर दुष्कर्म किया। बच्ची जब बेहोश हो गई तो मानवता को शर्मसार कर आरोपी उसे छोड़कर फरार हो गये।


यह मामला उत्तर प्रद्देश के लखनऊ शहर के इंदिरानगर इलाके का हैं. मासूम बच्ची को देर रात उसके परिजनों ने झाड़ियों के बीच बेहोश हालत में पाया। उसके कपड़े अस्तव्यस्त थे और शरीर से खून बह रहा था। बच्ची को जब होश आया तो उसने अपनी आपबीती मां को सुनाई तो वह उसे लेकर पुलिस के पास पहुंची। पुलिस ने बच्ची को अस्पताल भेजने के साथ दुष्कर्म, पॉक्सो एक्ट व दलित उत्पीड़न में केस दर्ज कर एक आरोपी को पकड़ लिया। बाकी तीन फरार हैं।

इंदिरानगर के प्रभारी निरीक्षक मुकुल प्रकाश वर्मा ने बताया कि सीतापुर की एक महिला पति की मौत के बाद अपनी मां व तीन बच्चों के साथ झोपड़पट्टी में रहती है। सभी शनिवार रात सो रहे थे। रात करीब दो बजे महिला की नींद खुली तो मासूम को न पाकर तलाश शुरू की। आसपास के लोगों के साथ ढूंढते हुए झाड़ियों के पास पहुंची तो चार लड़के भागते नजर आए। वहां पहुंची तो बच्ची बेहोश पड़ी थी। दुष्कर्म आरोपी से जब इस मामले में पूछताछ की गयी तो उसने बताया कि दो दिन पहले लड़की की नानी ने उसे बहुत फटकारा था। इस पर उसने बदला लेने की ठान ली थी। दोस्तों की मदद से बच्ची को उठा ले गया था। बोला कि एक दोस्त ने दुष्कर्म किया था। लड़की के बेहोश हो जाने पर भाग निकले थे।

बच्ची से सामूहिक दुष्कर्म की सूचना पर पहुंचे वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार ने इंदिरानगर पुलिस को आरोपियों को जल्द पकड़ने के आदेश दिए। बताया कि सामूहिक दुष्कर्म, पॉक्सो एक्ट व दलित उत्पीड़न के तहत प्राथमिकी दर्ज करके विवेचना क्षेत्राधिकारी गाजीपुर अवनीश्वर चंद्र श्रीवास्तव को सौंपी गई है। बच्ची के चिकित्सकीय परीक्षण के साथ उसके उपचार कराने के लिए पुलिस टीम डॉक्टरों से संपर्क बनाए है।

इंदिरानगर के प्रभारी निरीक्षक मुकुल प्रकाश वर्मा ने बताया कि अस्पताल से लौटी बच्ची ने पकड़े गए नाबालिग की मौके पर मौजूदगी बताई लेकिन अन्य तीनों नामजद लड़कों को लेकर असमंजस में थी। आरोपी ने पूछताछ में कुबूला कि पकड़े जाने पर उसने अपने दोस्तों के नाम बताए थे। पुलिस अफसरों ने गहन छानबीन करके सही आरोपियों को पकड़ने के निर्देश दिए। महिला पुलिसकर्मी से पीड़िता को ढांढस बंधाकर ब्योरा जानने को कहा।

Related Articles