इन सात सीटों पर कांग्रेस नेता सिंधिया के अलावा और भी कई पेंच

भोपाल: लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस सात सीटों ग्वालियर, गुना, धार, इंदौर, विदिशा, राजगढ़ और भिंड पर फैसला नहीं ले पा रही है। इन सीटों में से ग्वालियर और गुना पर सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के कारण प्रत्याशी तय नहीं हो पा रहा है तो धार में जय आदिवासी युवा संगठन (जयस) के दबाव में उम्मीदवार के एलान को रोका गया है। वहीं, इंदौर व विदिशा सीटों के लिए भाजपा प्रत्याशी तय होने का इंतजार किया जा रहा है।

कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव के लिए अब तक मप्र की तीन सूचियों में 22 नाम तय किए हैं। विंध्य, बुंदेलखंड, महाकोशल की सभी सीटों पर फैसला हो गया है, लेकिन ग्वालियर-चंबल और मालवा सहित भोपाल संभाग की सात सीटें अभी बची हैं। इनमें से तीन सीटें ग्वालियर, भिंड और गुना सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रभाव क्षेत्र की हैं तो राजगढ़ पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का पुराना लोकसभा क्षेत्र है।

प्रियदर्शनी नहीं तो अशोक सिंह

प्रियदर्शनी राजे को चुनाव लड़वाने के दबाव के चलते ज्योतिरादित्य सिंधिया की गुना सीट को रोका गया है। सूत्र बताते हैं कि सिंधिया, प्रियदर्शनी राजे को चुनाव लड़वाने से बच रहे हैं। वे उनकी जगह ग्वालियर से सुनील शर्मा, केदार कंसाना या मोहन सिंह राठौर के नाम को आगे बढ़ा रहे हैं, जबकि अशोक सिंह अपने टिकट के लिए दिल्ली में डेरा डाले हैं। सिंधिया के विरोधी प्रियदर्शनी राजे की टिकट नहीं होने पर अशोक सिंह को टिकट दिए जाने को लेकर प्रयासरत हैं। वहीं, भिंड में भाजपा के पूर्व सांसद अशोक अर्गल के कांग्रेस में आने की संभावना कम होने से मामला अब गोविंद सिंह व सिंधिया के बीच लटक गया है।

जयस का दबाव

इधर, धार में कांग्रेस के पूर्व सांसद गजेंद्र सिंह राजूखेड़ी का नाम पैनल में होने के बावजूद घोषित नहीं होने के पीछे जयस का दबाव बताया जा रहा है। जयस नेता डॉ. हीरा अलावा पहले खरगोन सीट पर अपना प्रत्याशी चाह रहे थे, जिसमें जयस के दूसरे गुट के नेता को पार्टी ने टिकट दे दिया। सूत्र बताते हैं कि अब कांग्रेस डॉ. अलावा गुट को संतुष्ट करने उनके प्रत्याशी भगवान सिंह सोलंकी का नाम घोषित कर सकती है। डॉ. अलावा ने चेतावनी दी है कि अगर कांग्रेस ने धार से उनके नेता को टिकट नहीं दिया तो वे जयस समर्थित प्रत्याशी का खुलकर प्रचार करेंगे।

भाजपा प्रत्याशियों पर नजर

कांग्रेस इंदौर और विदिशा सीटों पर भाजपा के प्रत्याशियों के एलान पर नजर रखे है। इंदौर में भाजपा की तीस साल से सांसद रहीं सुमित्रा महाजन के इनकार के बाद पार्टी किसको प्रत्याशी बनाती है, उसके बाद कांग्रेस अपना उम्मीदवार तय करेगी। हालांकि कांग्रेस के पास भी इंदौर में ऐसा कोई बड़ा स्थानीय नाम नहीं है। सूत्र बताते हैं कि पार्टी इंदौर में सुमित्रा महाजन को प्रत्याशी नहीं बनाए जाने से बनी संभावनाओं को भुनाने बाहर से किसी बड़े नाम को लाकर उतारने का फैसला भी ले सकती है। इसी तरह विदिशा में भी कांग्रेस अपना प्रत्याशी भाजपा के उम्मीदवार की घोषणा के बाद तय करने की रणनीति पर काम कर रही है।

Related Articles