कमलनाथ के करीबियों पर आयकर विभाग की रेड, 9 करोड़ की नकदी बरामद

आयकर विभाग ने रविवार को मध्यप्रदेश, दिल्ली और गोवा के 50 ठिकानों पर बड़ी कार्रवाई करते हुए ताबड़तोड़ छापेमारी की. इस दौरान मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के पूर्व निजी सचिव प्रवीण कक्कड़, भांजे रातुल पुरी, पूर्व सलाहकार आरके मिगलानी और प्रतीक जोशी के घर की तलाशी ली गई. इस कार्रवाई में 300 आयकर ऑफिसर शामिल हैं. इस छापेमारी के तार अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर मामले से जुड़ते हुए नजर आ रहे हैं.

कमलनाथ के ओएसडी प्रवीण कक्कड़ के विजयनगर स्थित घर पर शनिवार-रविवार की रात करीब 3 बजे आयकर विभाग ने छापेमारी की. कक्कड़ पर आय से अधिक संपत्त‍ि का मामला बताया जा रहा है. कक्कड़ के इंदौर में चार और भोपाल के एक ठिकाने पर छापेमारी की गई है.

दिल्ली से आए आयकर विभाग के 15 अफसरों की टीम इंदौर में स्कीम नंबर 74 स्थित कक्कड़ के आवास पर पहुंची. यहां विजय नगर स्थित शोरूम, बीएमसी हाइट्स स्थित ऑफिस, शालीमार टाउनशिप और जलसा गार्डन, भोपाल स्थित घर श्यामला हिल्स, प्लेटिनम प्लाजा कॉलोनी समेत अन्य स्थानों पर भी जांच की जा रही है. .

आयकर सूत्रों ने न्यूज एजेंसी को बताया कि मध्यप्रदेश के भोपाल-इंदौर, गोवा और दिल्ली में एक साथ देर रात 3 बजे कार्रवाई शुरू की गई. अमिता ग्रुप और मोजर बियर के दफ्तर भी खंगाले गए.

आयकर विभाग के सूत्रों के अनुसार, आयकर विभाग के 300 अधिकारीयों की टीम देश भर के 50 ठिकानों पर छापेमारी कर रही है. इनमें से भोपाल, इंदौर, गोवा के अलावा दिल्ली में 35 लोकेशन पर छापेमारी की है. भोपाल में प्रतीक जोशी के यहां भारी मात्रा में रुपये बरामद हुए हैं. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के भांजे रातुल पुरी, मनी लॉन्ड्रिंग मामले में फंसे हुए हैं. रातुल पुरी का नाम राजीव सक्सेना से पूछताछ के दौरान छिपा लिया गया था. राजीव सक्सेना का दुबई से अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर डील मामले में प्रत्यर्पण हुआ था.

कौन हैं प्रवीण कक्कड़?

प्रवीण कक्कड़ पूर्व पुलिस अधिकारी हैं. उन्हें राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया था. साल 2004 में नौकरी छोड़कर वे कांग्रेस नेता कांतिलाल भूरिया के ओएसडी बने. दिसंबर 2018 में कमलनाथ के ओएसडी बन गए थे. बताया जा रहा है कि नौकरी में रहते हुए उनके खिलाफ कई मामले सामने आए, जिनकी जांच चल रही है. सालों पहले कक्कड़ ने वीआरएस ले लिया था. उन्हें झाबुआ के सांसद और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया का करीबी माना जाता है.

Related Articles