खरीफ की फसलों के लिए MSP में बढ़ावा, जानें क्या है भाव?

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बताया धान जो सामान्य स्तर का है उसका भाव 1868 रुपये प्रति क्विंटल था, 2021-22 में ये 1940 रुपये प्रति क्विंटल हो गया है

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिपरिषद की बैठक में खरीफ की फसलों का MSP घोषित करने का निर्णय हुआ है। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने बताया धान जो सामान्य स्तर का है उसका भाव 1868 रुपये प्रति क्विंटल था, 2021-22 में ये 1940 रुपये प्रति क्विंटल हो गया है। बाजरा जो 2020-21 में 2150 रुपये प्रति क्विंटल था, वो अब 2250 रुपये प्रति क्विंटल हो गया है।

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि सरसों का तेल थोड़ा महंगा हुआ है क्योंकि उसमें सरकार ने मिलावट को बंद किया है। ये भारत सरकार का बहुत महत्वपूर्ण फैसला है और इसका फायदा देशभर के तिलहन और सरसो में काम करने वाले किसानों को होने वाला है। जो भी दाम बढ़ेंगे उस पर सरकार की नजर है।

खरीफ के पहले MSP घोषित

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने कहा खरीफ सीजन के पहले ही MSP घोषित की है और उसे बढ़ाया भी गया है। रेलवे यातायात ज्यादा सुरक्षित करने के लिए 4G स्पेक्ट्रम का रेलवे को ज्यादा आवंटन किया गया है। अब तक रेलवे 2G स्पेक्ट्रम का उपयोग करती थी।

प्रकाश जावड़ेकर ऑटोमैटिक ट्रेन प्रोटेक्शन की व्यवस्था अब रेलवे में बहुत ज्यादा मजबूत की जा रही है। दो गाड़ियों का टकराव न हो, इसके लिए जो व्यवस्था बनी है, उसे 4 भारतीय कंपनियों ने बनाया है।

जानें MSP का मतलब

MSP का मतलब “न्यूनतम समर्थन मूल्य” है। एमएसपी वह मूल्य है जो किसानों को उनकी फसलों पर मिलता है, जो कि सरकार CACP (कृषि लागत और मूल्य आयोग) द्वारा दिए गए आंकड़ों के अनुसार निर्धारित करती है। न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) एक कृषि उत्पाद मूल्य है, जिसे भारत सरकार द्वारा सीधे किसान से खरीदने के लिए निर्धारित किया जाता है। यह दर फसल के न्यूनतम लाभ के लिए किसान को सुरक्षित रखने के लिए है।

यह भी पढ़ेअनाथ बच्चों का सहारा बनी Uttarakhand सरकार, ‘वात्सल्य योजना’ पर कैबिनेट की मंजूरी

Related Articles

Back to top button